BREAKING NEWS
  • सीबीआई के बाद अब ईडी ने भी पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार- Read More »
  • मायावती ने यूपी सरकार से पूछा- गलत आर्थिक नीतियों की सजा 25 हजार होमगार्ड्स को क्यों- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »

नरेंद्र मोदी सरकार के इस फैसले से 3.6 करोड़ कर्मचारियों को होगा बड़ा फायदा

News State Bureau  |   Updated On : June 14, 2019 08:31:45 AM
ESI एक्ट के तहत नियोक्ता, कर्मचारियों का अंशदान घटा

ESI एक्ट के तहत नियोक्ता, कर्मचारियों का अंशदान घटा (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  सरकार ने ESI एक्ट के तहत अंशदान की दर को 6.5 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी किया
  •  नए आदेश के तहत नियोक्ता का अंशदान 4.75 फीसदी से घटाकर 3.25 फीसदी किया गया
  •  कर्मचारियों को 1.75 फीसदी के स्थान पर अब 0.75 फीसदी ही अंशदान देना पड़ेगा

नई दिल्ली:  

नरेंद्र मोदी सरकार ने ऑर्गेनाइज्ड सेक्टर (संगठित क्षेत्र) में काम करने वाले करोड़ों लोगों के लिए बड़ी घोषणा की है. सरकार ने राज्य कर्मचारी बीमा (ESI) एक्ट के तहत अंशदान की दर को 6.5 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया है. नए आदेश के तहत नियोक्ता का अंशदान 4.75 फीसदी से घटाकर 3.25 फीसदी कर दिया है.

इसके अलावा कर्मचारियों को 1.75 फीसदी के स्थान पर अब 0.75 फीसदी ही अंशदान देना पड़ेगा. घटी हुई दरें एक जुलाई 2019 से प्रभावी मानी जाएगी. सरकार के इस कदम से करीब 3.6 करोड़ कर्मचारी और 12.85 लाख नियोक्ता को फायदा होगा. केंद्रीय श्रम मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में यह जानकारी दी है.

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price 14 June: ग्राहकों के लिए खुशखबरी, 2 दिन में दिल्ली में 25 पैसे सस्ता हुआ पेट्रोल

कंपनियों को सालाना 5 हजार करोड़ रुपये बचत की संभावना
केंद्र सरकार के इस फैसले से कंपनियों को सालाना करीब 5 हजार करोड़ रुपये की बचत होने की संभावना है. श्रम मंत्रालय के मुताबिक अंशदान घटने से ज्यादा से ज्यादा कामगारों को ESI के अंतर्गत लाने में आसानी होगी. वहीं अंशदान कम होने से कंपनियों के ऊपर वित्तीय बोझ भी कम होगा.

यह भी पढ़ें: अब इस रास्ते भारत में बड़ी तेजी से घुसपैठ कर रहा है चीन, जानें क्या है मामला

ESI Act से मिलती है कई सुविधाएं
कर्मचारी राज्य बीमा कानून, 1948 (ESI Act) के अंतर्गत बीमित व्यक्तियों को चिकित्सा समेत कई सुविधाएं मिलती हैं. ESI कानून के अंतर्गत उपलब्ध कराए जाने वाले फायदे नियोक्ताओं और कर्मचारियों द्वारा किए गए अंशदान के माध्यम से वित्त पोषित होते हैं.

यह भी पढ़ें: अपनी आदतों में सिर्फ थोड़ा सा कर लें बदलाव, बन जाएंगे धनवान (Rich)

श्रम और रोजगार मंत्रालय के जरिए केंद्र सरकार ESI कानून के अंतर्गत अंशदान की दर तय करती है. मौजूदा समय में अंशदान की दर वेतन का 6.5 प्रतिशत निर्धारित है. इसके तहत नियोक्ता का अंशदान 4.75 प्रतिशत और कर्मचारी का अंशदान 1.75 प्रतिशत है. अंशदान की पुरानी दर 1 जनवरी 1997 से लागू थी.

First Published: Jun 14, 2019 08:18:37 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो