74 साल के हुए अजीम प्रेमजी, 53 साल में 12 हजार गुना बढ़ाया विप्रो का कारोबार

News State Bureau  |   Updated On : July 24, 2019 03:10:59 PM
अजीम प्रेमजी (Azim Premji) - फाइल फोटो

अजीम प्रेमजी (Azim Premji) - फाइल फोटो (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  अजीम प्रेमजी ने सिर्फ 21 साल की उम्र में कंपनी की कमान संभाल ली थी
  •  53 साल में कारोबार 7 करोड़ से बढ़ाकर 83 हजार करोड़ रुपये पहुंचा दिया
  •  चालू वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही कंपनी को 12.6 फीसदी अधिक मुनाफा

नई दिल्ली:  

देश की दिग्गज IT कंपनी विप्रो (Wipro) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर अजीम प्रेमजी (Azim Premji) आज अपना 74वां जन्मदिवस मना रहे हैं. बता दें कि अजीम प्रेमजी 30 जुलाई को रिटायर हो रहे हैं. 31 जुलाई को उनके स्थान पर उनके बेटे रिशद प्रेमजी कंपनी की कमान संभालेंगे.

यह भी पढ़ें: आयकर सिस्टम का दुरुपयोग करने वालों से सख्ती से निपटें, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का बयान

21 साल में संभाल ली थी कंपनी की कमान
अजीम प्रेमजी ने सिर्फ 21 साल की उम्र में कंपनी की कमान संभाल ली थी. प्रेमजी ने 53 साल में कंपनी का कारोबार 7 करोड़ से 12 हजार गुना बढ़ाकर 83 हजार करोड़ रुपये तक पहुंचा दिया. शुरुआती समय में वेजिटेबल ऑयल और साबुन का बिजनेस करने वाली विप्रो (Wipro) को आज IT, FMCG क्षेत्र की दिग्गज कंपनियों में नाम आता है. प्रेमजी ने 1970 में साबुन और तेल का बिजनेस छोड़कर सॉफ्टवेयर में हाथ आजमाया.

यह भी पढ़ें: कॉर्पोरेट जगत के लिए खुशखबरी, बड़ी कंपनियों पर घट सकता है कॉर्पोरेट टैक्स

निदेशक मंडल में रहेंगे अजीम प्रेमजी
अजीम प्रेमजी पांच साल तक गैर कार्यकारी निदेशक और संस्थापक चेयरमैन के रूप में निदेशक मंडल में बने रहेंगे. उनके बेटे रिशद प्रेमजी कंपनी के कार्यकारी अब चेयरमैन का पदभार संभालेंगे. कार्यकारी निदेशक ए जेड नीमचवाला कंपनी के सीईओ और प्रबंध निदेशक का काम करेंगे. 70 के दशक में अजीम प्रेमजी अमेरिकन कंपनी सेंटिनल कंप्यूटर कॉरपोरेशन के साथ जुड़ गए. प्रेमजी ने 1980 में IT कंपनी विप्रो की शुरुआत की. आज विप्रो को देश की तीसरी बड़ी IT कंपनी का रुतबा हासिल है.

यह भी पढ़ें: स्टील किंग लक्ष्मी निवास मित्तल के छोटे भाई धोखाधड़ी के संदेह में गिरफ्तार

साधारण परिवार में हुआ था जन्म
अजीम प्रेमजी का जन्म 24 जुलाई 1945 को मुंबई के साधारण बिजनेसमैन मोहम्मद हाशिम प्रेमजी के घर हुआ था. पिता का वेजिटेबल ऑयल और साबुन का बिजनेस था. 1947 में भारत-पाकिस्तान के विभाजन के बाद मोहम्मद अली जिन्ना ने हाशिम प्रेमजी को पाकिस्तान में बसने और वित्त मंत्री बनाने की पेशकश भी की थी, लेकिन हाशिम प्रेमजी ने जिन्ना की पेशकश को ठुकराकर भारत में रहने का निर्णय लिया था.

यह भी पढ़ें: SBI की इस बात को नहीं मानने पर ग्राहकों को हो सकती है बड़ी परेशानी

चालू वित्त वर्ष में कंपनी को 12 फीसदी से अधिक मुनाफा
चालू वित्‍त वर्ष की पहली तिमाही कंपनी ने अप्रैल-जून तिमाही में सालाना आधार पर 12.6 फीसदी अधिक मुनाफा मिला है. कंपनी ने 2,388 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया है. पिछले साल इसी अवधि में कंपनी को 2,121 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था. कंपनी का रेवेन्‍यू 14,716 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है, जबकि पिछले साल इस दौरान कंपनी का राजस्व 13,978 करोड़ रुपये था.

First Published: Jul 24, 2019 02:01:01 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो