BREAKING NEWS
  • ये है दुनिया का सबसे धनी परिवार, एक घंटे में होती है 28 करोड़ रुपये से भी ज्यादा कमाई- Read More »
  • आर्थिक मंदी से घबराए बीजेपी नेता के बेटे ने की आत्महत्या, एक साल पहले हुई थी शादी- Read More »
  • PKL 7: दबंग दिल्ली और बंगाल वॉरियर्स के बीच खेला गया रोमांचक मैच, 30-30 अंकों पर टाई हुआ मैच- Read More »

अनिल अंबानी (Anil Ambani) ने 35,000 करोड़ रुपये कर्ज चुकाने का किया दावा

PTI  |   Updated On : June 12, 2019 12:07 PM
अनिल अंबानी (Anil Ambani) - फाइल फोटो

अनिल अंबानी (Anil Ambani) - फाइल फोटो

ख़ास बातें

  •  पिछले 14 महीनों में ADAG ने 35,000 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाया: अनिल अंबानी
  •  24,800 करोड़ रुपये मूलधन और 10,600 करोड़ रुपये ब्याज का भुगतान किया 
  •  अनिल अंबानी ने कहा कि उनका समूह सभी देनदारियों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध

नई दिल्ली:  

अनिल धीरूभाई अंबानी समूह (ADAG) के प्रमुख अनिल अंबानी (Anil Ambani) ने कहा है कि उनका समूह सभी ऋण देनदारियों को समय से पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है. पिछले 14 महीनों में उनके समूह ने 35,000 करोड़ रुपये का कर्ज चुकाया है.

यह भी पढ़ें: करोड़पति (Crorepati) बनने के लिए इन योजनाओं में लगाएं पैसा, जानकारी के लिए पढ़ें पूरी खबर

10,600 करोड़ रुपये ब्याज का किया भुगतान
अनिल अंबानी ने कहा कि चुनौतीपूर्ण हालातों और वित्तपोषकों से कोई वित्तीय सहायता नहीं मिलने के बावजूद उनके समूह ने 1 अप्रैल 2018 से लेकर 31 मई, 2019 के बीच अपने ऊपर बकाया ऋण में 24,800 करोड़ रुपये मूलधन और 10,600 करोड़ रुपये ब्याज का भुगतान किया है. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ हफ्तों के दौरान गैरवाजिब अफवाहों, अटकलों और रिलायंस समूह की सभी कंपनियों के शेयर में गिरावट के चलते हमारे सभी हितधारकों को काफी नुकसान हुआ है. यह 35,000 करोड़ रुपये के ऋण का भुगतान रिलायंस कैपिटल, रिलायंस पावर और रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और इनसे संबद्ध कंपनियों से जुड़ा है.

यह भी पढ़ें: GST काउंसिल की बैठक 20 जून को, दरों में कमी की उम्मीद

निवेशकों को किया आश्वस्त
अनिल अंबानी ने निवेशकों को आश्वस्त किया कि उनका समूह भविष्य में सभी ऋण देनदारियों को समय से पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है. इसके लिए उसके पास परिसंपत्तियों के मौद्रिकरण की योजना है जिसे वह कई स्तर पर लागू भी कर चुका है. अंबानी ने समूह की कुछ समस्याओं के लिए नियामकीय संस्थानों और अदालतों को भी जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि कुछ मामलों में फैसला आने में देरी की वजह से समूह को 30,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया नहीं मिल पाया.

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price 12 June: आज के लिए पेट्रोल-डीजल के नई कीमतें जारी, जानें ताजा भाव

अंबानी ने कहा कि रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर, रिलायंस पावर और उससे संबद्ध कंपनियों का यह बकाया पांच से 10 साल तक पुराना है. इस पर अंतिम निर्णय आने में एक के बाद एक कारणों से देरी हुई है. उन्होंने कहा कि वित्तीय प्रणाली ने समूह के प्रति पूरी तरह उदासीनता बरती और कहीं से भी कोई समर्थन नहीं मिला जिसका परिणाम यह हुआ कि इसने ऋणदाताओं और अन्य हितधारकों के हितों का नुकसान हुआ.

यह भी पढ़ें: इंडस्ट्री बॉडी फिक्की ने वित्तमंत्रालय को दिया सुझाव, टैक्स छूट की सीमा बढ़ाए सरकार

अंबानी ने भरोसे से कहा कि समूह को बदलने की यात्रा शुरू हो चुकी है जिसमें पूंजी को हल्का रखने, कम से कम ऋण लेने और शेयर पर ऊंचा रिटर्न देने की प्रतिबद्धता है जो सभी हितधारकों के मूल्य को बढ़ाएगा.

First Published: Wednesday, June 12, 2019 11:54 AM
Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज,ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

RELATED TAG: Anil Ambani, Anil Dhirubhai Ambani Group, Adag, Reliance Group, Reliance Communications, Rcom, Reliance Capital Ltd, Reliance Infrastructure Ltd, Reliance Power Ltd, Latest News, Business News In Hindi,

डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

न्यूज़ फीचर

वीडियो