BREAKING NEWS
  • बिहार के गौतम बने 'KBC 11' के तीसरे करोड़पति, कहा-पत्नी की वजह से मिला मुकाम- Read More »
  • छोटा राजन का भाई उतरा महाराष्ट्र के चुनावी रण में, इस पार्टी ने दिया टिकट - Read More »
  • IND vs SA, Live Cricket Score, 1st Test Day 1: भारत ने टॉस जीता पहले बल्‍लेबाजी- Read More »

बीजेपी के इस संगठन ने फूंक दिया विरोध का बिगुल, किया इस पॉलिसी का विरोध

News State Bureau  |   Updated On : July 26, 2019 11:47:16 AM
स्वदेशी जागरण मंच (SJM) - फाइल फोटो

स्वदेशी जागरण मंच (SJM) - फाइल फोटो (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

सॉवरेन बॉन्ड के द्वारा विदेशी कर्ज जुटाने की कोशिशों को झटका लग सकता है. दरअसल, स्वदेशी जागरण मंच (SJM) ने सॉवरेन बॉन्ड के जरिए विदेशी फंड जुटाने का विरोध किया है. इस विरोध के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने वित्त मंत्री को विदेशी सॉवरेन बॉन्ड पर फिर से विचार करते हुए पूर्व बैंकर्स और अर्थशास्त्रियों द्वारा इस संबंध में उठाए गए सवालों को जांच करने को कहा है.

यह भी पढ़ें: टुकड़े-टुकड़े गैंग पर खामोश रहने वाले 49 लोगों पर अब 61 हस्तियों ने साधा निशाना

बजट में हुई थी सॉवरेन बॉन्ड के जरिए फंड जुटाने की घोषणा
प्रधानमंत्री कार्यालय का कहना है कि इन सवालों के जांच के बाद ही बजट के प्रस्ताव को लागू करने पर विचार किया जाना चाहिए. बता दें कि 5 जुलाई को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में घोषणा की थी कि देश की विकास योजनाओं के लिए सॉवरेन बॉन्ड के जरिए लोन लिया जाएगा. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के संगठन स्वदेशी जागरण मंच ने मोदी सरकार के इस प्रस्ताव का राष्ट्र विरोधी बताते हुए विरोध किया है.

यह भी पढ़ें: Kargil Vijay Diwas: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ इस तरह किया योद्धाओं को याद, शेयर की ये खास तस्वीरें

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार सॉवरेन बॉन्ड के जरिए 7.1 लाख करोड़ रुपये उधारी का 10-15 फीसदी चालू वित्त वर्ष में जुटाने की योजना है. बता दें कि सरकार की ओर से अगले 5 साल में 5 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था बनाने के लिए मूलभूत ढांचे में 100 लाख करोड़ रुपये निवेश का लक्ष्य रखा है. सूत्रों के मुताबिक केंद्र सरकार चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में पहला सॉवरेन बॉन्ड जारी कर सकती है.

यह भी पढ़ें: Kargil Vijay Diwas Live Updates: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साझा की 1999 की यादें, कहा- जवानों के साथ गुजारे पल कभी नहीं भूल सकता

क्या है सॉवरेन बॉन्ड
दरअसल, बॉन्ड के जरिए एक निश्चित रिटर्न मिलता है. इसके जरिए सरकार या कंपनियां पूंजी जुटाती हैं. बॉन्ड खरीदने वाला एक तरह से सरकार या किसी कंपनी को पूंजी कर्ज के रूप में दे रहा होता है और उसके बदले में बॉन्ड लेने वाले को मूलधन के साथ एक फिक्स्ड रिटर्न का वादा किया जाता है.

First Published: Jul 26, 2019 11:47:16 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो