BREAKING NEWS
  • अस्पताल में 30 मिनट तक पड़ा रहा मरीज, इलाज न मिलने से चल गई जान- Read More »
  • आयकर विभाग की बड़ी कार्रवाई, यहां बेनामी संपत्ति कानून के तहत करोड़ों की जमीन जब्त- Read More »
  • Today History: आज ही के दिन WHO ने एशिया के चेचक मुक्त होने की घोषणा की थी, जानें आज का इतिहास- Read More »

मोदी सरकार पर निशाना साधने वाले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समय भी इकोनॉमी का हुआ था बेड़ा गर्क

सुनील मिश्रा/धीरेंद्र कुमार  |   Updated On : September 04, 2019 06:57:27 PM
आर्थिक विकास दर (GDP Growth Rate)

आर्थिक विकास दर (GDP Growth Rate) (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

मौजूदा समय में दुनियाभर में मंदी का माहौल है. अमेरिका और चीन (US-CHINA) के बीच जारी ट्रेड वॉर (Trade War) का नकारात्मक असर दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं पर पड़ रहा है. भारत भी इससे अछूता नहीं है. हालांकि केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार मंदी से निपटने के लिए कमर कस चुकी है. सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए ताबड़तोड़ फैसले ले रही है और आने वाले समय में भी कई अहम फैसले लिए जाने की संभावना है. मौजूदा मंदी को लेकर विपक्ष मोदी सरकार पर हमलावर है.

यह भी पढ़ें: मंदी के शोर के बीच पढ़ें इन उद्यमियों की कहानियां, देखें कैसे Whats App ने बदली इनकी तकदीर

विपक्ष ने GDP के 5 फीसदी पर आने को लेकर सरकार पर काफी आरोप लगाए हैं. यहां तक कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) ने भी मोदी सरकार के पिछले कार्यकाल के नोटबंदी (Demonetisation) को लेकर किए गए फैसले की भारी आलोचना की है और GDP में आई भारी गिरावट को नोटबंदी और GST का परिणाम बताया है. हालांकि मनमोहन सिंह समेत हमलावर विपक्ष यह भूल गया है कि एक समय उनके कार्यकाल में भी GDP में भारी गिरावट दर्ज की गई थी. हालत तो यह हो गई थी कि GDP 5 फीसदी से भी नीचे आ गई थी.

यह भी पढ़ें: ऑटो सेक्टर में मंदी की सुनामी, अगस्त में बिक्री में रिकॉर्ड गिरावट

यूपीए-2 (UPA-2) में 5 फीसदी से कम थी GDP ग्रोथ रेट
चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में देश की जीडीपी ग्रोथ रेट 5 फीसदी दर्ज की गई है. हालांकि अगर आंकड़ों को देखें तो यूपीए-2 (UPA-2) के कार्यकाल में वित्त वर्ष 2013 (FY13) में देश की GDP 4.96 फीसदी दर्ज की गई थी. GDP में गिरावट का दौर यूपीए के कार्यकाल में ही शुरू हो चुका था. यूपीए के पहले कार्यकाल में जीडीपी ग्रोथ रेट 9.57 फीसदी दर्ज की गई थी. हालांकि उसके बाद के वर्षों में जीडीपी ग्रोथ रेट में गिरावट का दौर शुरू हो गया था.

यह भी पढ़ें: आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार को एक और झटका, 8 कोर सेक्टर्स के विकास में भारी गिरावट

5 फीसदी पर आई आर्थिक विकास दर (GDP Growth Rate)
चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानि अप्रैल-जून में भारत की आर्थिक विकास दर (GDP Growth Rate) घटकर सिर्फ 5 फीसदी रह गई है. देश की जीडीपी ग्रोथ लुढ़ककर साढ़े छह साल के निचले स्तर पर आ गई है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 5.8 फीसदी दर्ज की गई थी. GDP के ताजा आंकड़ों को लेकर हर तरफ चिंता का माहौल बन गया है. ऐसे हालात में यह भी देखना जरूरी है कि दुनियाभर के प्रमुख देशों से जिनका हमसे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संबंध है. उनकी GDP को लेकर क्या आंकड़े हैं.

यह भी पढ़ें: आम आदमी को मंदी के झटके से बचाने के लिए नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार ले सकती है बड़ा फैसला

चीन की जीडीपी ग्रोथ 6.2 फीसदी
2019 में चीन की GDP ग्रोथ 6.2 फीसदी दर्ज की गई है, जबकि 2018 में चीन की जीडीपी ग्रोथ 6.6 फीसदी रही थी. मौजूदा समय में चीन का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 12.24 लाख करोड़ अमेरिकी डॉलर है. चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो ने 2019 की दूसरी तिमाही में 6.2 फीसदी जीडीपी ग्रोथ रहने का अनुमान जताया था.

यह भी पढ़ें: खुशखबरी: आर्थिक मंदी के माहौल में ये कंपनी देने जा रही है 2,000 नौकरियां

अमेरिका और जापान की जीडीपी ग्रोथ काफी कम
2019 की पहली तिमाही में अमेरिका का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की विकास दर 3.2 फीसदी दर्ज की गई है. बता दें कि भारत के मुकाबले अमेरिकी की जीडीपी ग्रोथ 1.8 फीसदी कम है. मौजूदा समय में अमेरिका की जीडीपी 19.39 लाख करोड़ अमेरिकी डॉलर है. वहीं जापान की बात करें तो वहां की GDP ग्रोथ रेट 1.8 फीसदी दर्ज की गई है. जापान की जीडीपी ग्रोथ के मुकाबले भारत की GDP ग्रोथ ढाई गुना से ज्यादा है. फिलहाल जापान की GDP 4.87 लाख करोड़ अमेरिकी डॉलर है.

यह भी पढ़ें: Financial Crisis: कार कंपनियों की बिक्री में भारी गिरावट, नौकरियों पर खतरा बढ़ा

भारत से काफी पीछे है कंगाल पाकिस्तान की GDP
चालू वित्त वर्ष में कंगाल पाकिस्तान (Kangaal Pakistan) की जीडीपी ग्रोथ 3.29 फीसदी दर्ज की गई है. मौजूदा समय में पाकिस्तान का सकल घरेलू उत्पाद (GDP) 312.57 अरब डॉलर है. पाकिस्तान के आंकड़ों को देखें तो वहां की जीडीपी भारत के मुकाबले काफी पीछे है. IMF ने अनुमान लगाया है कि मौजूदा आर्थिक परिस्थितियों को देखते हुए निकट भविष्य में पाकिस्तान की जीडीपी (GDP) ग्रोथ 2.9 फीसदी रह सकती है, जो कि पूरे दक्षिण एशिया में सबसे कम है. जुलाई 2019 में पाकिस्तान में महंगाई दर 10.3 फीसदी दर्ज की गई थी.

First Published: Sep 04, 2019 01:22:42 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो