BREAKING NEWS
  • उन्नाव रेप पीड़िता की पोस्टमॉर्ट रिपोट आई सामने, डॉक्टरों ने बताया मौत का कारण- Read More »

नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार सरकारी कंपनियों के लिए लेने जा रही है ये बड़ा फैसला

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : September 24, 2019 12:06:37 PM
सरकारी कंपनियों के विलय की तैयारी में सरकार

सरकारी कंपनियों के विलय की तैयारी में सरकार (Photo Credit : )

नई दिल्ली:  

केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार सरकारी कंपनियों यानि PSU के विलय की तैयारी कर रही है. बता दें कि सरकार ने अभी कुछ समय पहले ही कुछ सरकारी बैंकों (Government Banks) का विलय किया था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार ने विलय (Merger) की प्रक्रिया जल्द शुरू करने की योजना बनाई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने वित्त मंत्रालय समेत अन्य मंत्रालयों को निर्देश दिया है कि अब एक PSU के द्वारा दूसरे PSU के खरीद पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) ने फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) की दरों में कर दिया ये बड़ा बदलाव

सरकारी कंपनियों के विलय करने के लिए हो सकता है कमेटी का गठन
प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा है कि जिन कंपनियों की हालत ज्यादा खस्ता है, उसकी बिक्री की प्रक्रिया शुरू किया जाए. इसके अलावा किन PSU का विलय किया जा सकता है इसकी भी संभावनाएं तलाशने को कहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सरकारी कंपनियों के विलय को लेकर जल्द ही संबंधित मंत्रालयों की बैठक हो सकती है. इस बैठक में सरकारी कंपनियों के विलय करने के लिए कमेटी का गठन भी किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार ने पेंशन नियमों में किया बड़ा बदलाव, अब इनको मिलेगा ज्यादा पैसा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार की मंशा सरकारी कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी को 51 फीसदी से कम करने की है. हालांकि सरकार अपनी हिस्सेदारी 51 फीसदी से तो कम रखना चाहती है लेकिन भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) और अन्य सरकारी संस्थाओं की हिस्सेदारी को मिलाकर कंपनियों का प्रबंधन अपने पास ही रखना चाहती है.

यह भी पढ़ें: Gold Silver Rate Today 24 Sep: MCX पर सोने-चांदी में आया जोरदार उछाल, एक्सपर्ट से जानें आज क्या बनाएं रणनीति

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्र सरकार एक विशेष सेक्टर के लिए एक ही सरकारी कंपनी रखना चाहती है. मतलब, ऑयल सेक्टर, कोयला, स्टील सेक्टर के लिए सिर्फ एक ही बड़ी सरकारी कंपनी रखने पर विचार हो रहा है. सरकारी छोटी कंपनियों का विलय बड़ी कंपनियों में कर सकती है. मौजूदा विकल्पों पर विचार के बाद ही विलय की प्रक्रिया का ड्रॉफ्ट तैयार किया जाएगा.

First Published: Sep 24, 2019 12:06:37 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो