महंगे हो सकते हैं रोजमर्रा के सामान, जीएसटी काउंसिल (GST Council) की बैठक में हो सकता है बड़ा फैसला

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : December 04, 2019 12:10:54 PM
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman)

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

GST Council 38th Meeting 2019: एक ओर जहां खाद्य वस्तुओं की महंगाई से आम आदमी हलकान है. वहीं अब केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार आने वाले दिनों में उसके ऊपर और महंगाई का बोझ डाल सकती है. दरअसल, जीएसटी काउंसिल (GST Council) की अगली बैठक में सरकार कुछ बड़े फैसले ले सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मोदी सरकार आय बढ़ाने के लिए GST से मुक्त वस्तुओं और सेवाओं (GST Rate List) को भी टैक्स के दायरे में ला सकती है.

यह भी पढ़ें: बीएसएनएल (BSNL) के इस शानदार प्लान में मिल रहा है छप्परफाड़ इंटरनेट डेटा

15 दिसंबर के बाद जीएसटी काउंसिल की बैठक प्रस्तावित
केंद्र सरकार ने जीएसटी (gst) संग्रह को बढ़ाने और टैक्स की चोरी को रोकने के लिए अहम सुझाव मांगे हैं. गौरतलब है कि 3 महीने के बाद नवंबर में जीएसटी संग्रह 1 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 15 दिसंबर के बाद जीएसटी काउंसिल की बैठक प्रस्तावित है. माना जा रहा है कि इस बैठक में जीएसटी से छूट मिल रही वस्तुओं और सेवाओं को भी सरकार GST के अंतर्गत लाने के लिए समीक्षा कर सकती है.

यह भी पढ़ें: सुंदर पिचाई बने Google & Alphabet के CEO, कभी एयर टिकट के भी पैसे नहीं थे

इन वस्तुओं की हो सकती है समीक्षा
सरकार जीरो फीसदी के स्लैब में आने वाले अनब्रांडेड अनाज, फ्रेश मीट और दूध आदि वस्तुओं की समीक्षा कर सकती है. मोदी सरकार ने कमाई को बढ़ाने के लिए जीएसटी संग्रह को बढ़ाने और टैक्स की चोरी को रोकने के लिए समीक्षा होने की संभावना है. दरअसल, मौजूदा समय में सरकार की सबसे बड़ी चिंता घटती कमाई से है. केंद्र सरकार कमाई को बढ़ाने के लिए आने वाले दिनों में कई बड़े कदम उठा सकती है. मोदी सरकार ने राजस्व बढ़ाने के लिए कई अहम सुझाव भी मांगे हैं. राज्यों के अधिकारियों को 6 दिसंबर तक सुझाव देने के लिए कहा गया है.

यह भी पढ़ें: बासमती चावल का एक्सपोर्ट 10 फीसदी लुढ़का, गैर-बासमती 37 फीसदी गिरा

नवंबर महीने का GST कलेक्शन पहुंचा 1 लाख करोड़ के पार
गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) कलेक्शन के मोर्चे पर मोदी सरकार के नवंबर महीने का कुल कलेक्शन ₹ 1,03,492 रुपये रहा है. जिसमें से सीजीएसटी (CGST) यानी की केंद्र का जीएसटी कुल 19,592 करोड़ रुपये रहा है और एसजीएसटी यानी राज्यों का 27,144 करोड़ रुपये रहा है जबकि आजीएसटी (IGST) 49,028 करोड़ रुपये का रहा है. इसी के साथ सेस से कुल कमाई 7,727 करोड़ रुपये रहा था. बता दें कि अक्टूबर में कुल जीएसटी कलेक्शन 95,380 करोड़ रुपये रहा था. यानी कि पिछले महीने से इस महीने में (अक्टूबर से नवंबर) जीएसटी कलेक्शन में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. जबकि सितंबर महीने में जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपये से नीचे रहा था.

First Published: Dec 04, 2019 12:09:14 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो