गोपीचंद हिंदुजा ने अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए मोदी सरकार को दी ये बड़ी सलाह

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : December 18, 2019 03:02:24 PM
गोपीचंद हिंदुजा ने अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए मोदी सरकार को दी ये बड़ी सलाह

हिंदुजा समूह (Gopichand Hinduja) (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

हिंदुजा समूह (Gopichand Hinduja) के सह-अध्यक्ष गोपीचंद हिंदुजा ने मोदी सरकार को अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए सलाह दी है. उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार को सलाह दी है कि सरकार को ब्रिटिश तरीके से काम करने वाली देश की नौकरशाही में बड़े बदलाव करने की जरूरत है. उनका कहना है कि अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए मोदी सरकार को यह कदम उठाना चाहिए. उन्होंने कहा कि ऐसा करके सरकार 2024 तक 5,000 अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के अपने लक्ष्य को हासिल कर सकती है.

यह भी पढ़ें: Flashback 2019: प्याज ने आम आदमी के साथ ही सरकार के भी निकाले आंसू

भारत में 20 अरब डॉलर का निवेश करने के इच्छुक: गोपीचंद हिंदुजा
गोपीचंद हिंदुजा ने कहा कि उनकी कंपनी भारत में 20 अरब डॉलर का निवेश करना चाहती है. उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि इस निवेश से पहले भारत में आने वाली बाधाएं दूर होने के साथ ही और कारोबार की सुगमता होनी चाहिए. उन्होंने ने भारत आर्थिक सम्मेलन 2019 में कहा कि अर्थव्यवस्था को 5,000 अरब डॉलर करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो पहल की हैं, वह काफी सराहनीय है और उनका दृष्टिकोण अच्छा है. हालांकि गोपीचंद ने कहा कि मोदी की टीम को इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए काफी तेजी से काम करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि भारत में ब्रिटिश तौर तरीके वाले नौकरशाह अभी भी है. वहीं ब्रिटेन अपने नौकरशाही में काफी बदलाव ला चुका है.

यह भी पढ़ें: सोने की खरीदारी और बिकवाली पर क्या है टैक्स के नियम, जानें यहां

हिंदुजा ने कहा कि सबसे पहले हम यह देखना चाहते हैं कि हमारे नौकरशाहों में कैसे बदलाव लाया जाता है. करीब 6-7 साल पहले हमारी कंपनी भारत में 20 अरब डॉलर निवेश करना चाह रही थी, लेकिन जब हमने इस पर काम शुरू किया तो कई बाधाओं का सामना करना पड़ा. हमें लगा कि यहां कारोबार करना काफी परेशानी वाला है. हालांकि मोदी के आने के बाद कारोबार में सुगमता आई है और बदलाव में और गति लाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि भारत में उनकी कंपनी निवेश करना चाहती है. दरअसल, मौजूदा समय में अन्य देशों के मुकाबले भारत में ज्यादा अवसर दिख रहे हैं.

First Published: Dec 18, 2019 03:00:29 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो