BREAKING NEWS
  • RBI ने PMC बैंक ग्राहकों के लिए निकासी सीमा बढ़ाकर की 40,000 रुपए- Read More »
  • अयोध्या केस (Ayodhya Case) : सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) दोबारा इतिहास नहीं लिख सकता: मुस्लिम पक्ष- Read More »
  • राजस्थान में डर गई कांग्रेस की सरकार, मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत ने लिया यू-टर्न- Read More »

सरकार का एयर इंडिया को सभी नियुक्तियां, पदोन्नति रोकने का निर्देश

IANS  |   Updated On : July 21, 2019 10:14:43 AM
सरकार का एयर इंडिया को सभी नियुक्तियां, पदोन्नति रोकने का निर्देश

सरकार का एयर इंडिया को सभी नियुक्तियां, पदोन्नति रोकने का निर्देश (Photo Credit : )

ख़ास बातें

  •  निजीकरण को देखते हुए कोई बड़ा कदम न उठाने के निर्देश
  •  एयर इंडिया पर कुल लगभग 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज 
  •  पिछले वित्‍त वर्ष में एयर इंडिया को 7,600 करोड़ रुपये का नुकसान

नई दिल्‍ली:  

एयर इंडिया के निजीकरण के अपने प्रस्ताव को देखते हुए सरकार ने कंपनी में व्यापक स्तर पर सभी नियुक्तियों और पदोन्नतियों को रोकने का निर्देश दिया है. सिर्फ कुछ नई उड़ानें शुरू की जा सकती हैं, वह भी बहुत जरूरी होने पर और व्यावसायिक स्तर पर लाभकारी दिख रही हो तो. एक आधिकारिक सूत्र ने आईएएनएस से कहा, "यह निर्देश लगभग एक सप्ताह पहले आया है. इसके अनुसार, आगामी निजीकरण को देखते हुए कोई बड़ा कदम नहीं उठाया जाना है. इसके तहत नियुक्तियां और पदोन्नति भी रोक दी जाएगीं."

यह भी पढ़ें : पढ़ाई के लिए बने खतरों के खिलाड़ी, उत्तराखंड में नदियां उफान पर तो देखें कैसे स्‍कूल जा रहे हैं बच्‍चे

यह निर्देश निवेश तथा जन संपत्ति प्रबंधन विभाग (डीआईपीएएम) ने दिया है. पिछले कार्यकाल में बोली लगाने वाले को ढूंडने में नाकाम रही मोदी सरकार इस कार्यकाल में एयर इंडिया को निजी हाथों में देने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है. सरकार ने निजीकरण की प्रक्रिया में निर्णय लेने के लिए मंत्रियों के समूह (जीओएम) को दोबारा गठित किया है.

कंसल्टिंग फर्म ईवाई पहले से ही निजी बोली लगाने वालों को आमंत्रित करने के लिए प्रारंभिक सूचना ज्ञापन को अंतिम रूप देने के लिए काम कर रही है. एयर इंडिया के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "इस बार, विनिवेश को लेकर कोई संदेह नहीं है. जिस गति से चीजें हो रही हैं, विमानन कंपनी का मालिकाना हक किसी निजी कंपनी के पास पहुंच जाएगा."

यह भी पढ़ें : शीला दीक्षित की ही सोच का नतीजा, दिल्‍ली में पांच सीटों पर दूसरे नंबर पर रही कांग्रेस

एयर इंडिया पर कुल लगभग 58,000 करोड़ रुपये का कर्ज है. राष्ट्रीय विमानन कंपनी का संचयी नुकसान 70,000 करोड़ रुपये है। इसी साल 31 मार्च को खत्म हुए वित्त वर्ष में विमानन कंपनी को 7,600 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

नागरिक विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इसी सप्ताह कहा था कि एयर इंडिया को बचाने के लिए उसका निजीकरण करना होगा. उन्होंने कहा था कि सरकार ऐसी विमानन कंपनी को चलाने के लिए तैयार नहीं है जहां संचालन संबंधी निर्णय प्रतिदिन लिए जाते हैं ना कि नौकरशाही प्रक्रिया या ठेका प्रक्रिया से. पुनर्गठित जीओएम के अध्यक्ष गृह मंत्री अमित शाह अगले कुछ सप्ताहों में एयर इंडिया के निजीकरण से संबंधित निर्णय ले सकते हैं.

First Published: Jul 21, 2019 10:14:43 AM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो