Budget 2020: आप अपने मन के मुताबिक बजट चाहते हैं तो PM नरेंद्र मोदी को भेजिए अपनी राय

News State Bureau  |   Updated On : January 08, 2020 01:30:43 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) (Photo Credit : फाइल फोटो )

नई दिल्ली:  

Budget 2020: बजट पेश होने में अब सिर्फ 3 हफ्ते का समय रह गया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) एक फरवरी को अपना दूसरा आम बजट पेश करेंगी. वहीं बजट की तैयारी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने देश की जनता से बजट के लिए सुझाव मांगे हैं. प्रधानमंत्री ने अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट के जरिए आम जनता से बजट के ऊपर राय मांगी है. बता दें कि 5 जनवरी को MyGov के ट्विटर हैंडल के जरिए आम जनता से कृषि और शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए सुझाव मांगी गई थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस ट्वीट को ही रीट्वीट किया है.

यह भी पढ़ें: आर्थिक मंदी (Economic Slowdown) के बीच मोदी सरकार के लिए इस सेक्टर से आई खुशखबरी

130 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है बजट: पीएम मोदी
प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा है कि केंद्रीय बजट 130 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करता है. उन्होंने लिखा कि बजट भारत के विकास को बढ़ाने वाला होता है. उन्होंने ट्वीट में लिखा है कि मैं आप सभी को MyGov पर इस वर्ष के बजट के लिए अपने विचारों और सुझावों को साझा करने के लिए आमंत्रित करता हूं.

यह भी पढ़ें: अमेरिका-ईरान के बीच तनाव बढ़ने से 1 हफ्ते में कहां जाएगा कच्चे तेल का भाव, जाने यहां

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) 9 जनवरी को नीति आयोग (Niti Aayog) में विशेषज्ञों के साथ बैठक करेंगे. आगामी आम बजट को देखते हुये बैठक में अर्थव्यवस्था की स्थिति पर चर्चा होने की उम्मीद है. बैठक में नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भाग लेंगे. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बृहस्पतिवार को नीति आयोग आएंगे.

यह भी पढ़ें: Gold Rate Today 8 Jan 2020: ईरान ने अमेरिकी एयरबेस पर किया हमला, नई ऊंचाई पर पहुंच सकता है सोना

वित्त वर्ष 2019-20 में जीडीपी वृद्धि दर 5 फीसदी रहने का अनुमान
वित्त वर्ष 2019-20 में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) के पांच फीसदी होने का अनुमान जाहिर किया गया है. यह 2018-19 के दौरान 6.8 फीसदी थी. सरकार ने मंगलवार को यह जानकारी दी. आंकड़े वृद्धि दर में भारी गिरावट प्रदर्शित करते हैं. उद्योग व कोर सेक्टर में भी मंदी है. दूसरी तिमाही में वृद्धि दर घटकर 4.5 फीसदी हो गई थी. सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ने कहा, 'वास्तविक जीडीपी या जीडीपी के कांस्टेंट प्राइसेंज (2011-12) के साल 2019-20 में 147.79 लाख करोड़ रुपये के स्तर को प्राप्त करने की संभावना है, जो वर्ष 2018-19 के लिए जीडीपी के अनंतिम अनुमान के मुकाबले 140.78 लाख करोड़ रुपये है, जिसे 31 मई, 2019 को जारी किया गया था.

First Published: Jan 08, 2020 01:29:55 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो