PMC Bank Scam: HDIL डायरेक्टर्स को जेल से आवास पर स्थानांतरित करने पर लगी रोक

Bhasha  |   Updated On : January 16, 2020 02:13:14 PM
PMC Bank Scam

PMC Bank Scam (Photo Credit : फाइल फोटो )

दिल्ली:  

PMC Bank Matter: उच्चतम न्यायालय (Supreme Court) ने एचडीआईएल (HDIL) के प्रवर्तकों राकेश वधावन (Rakesh Wadhawan) और सारंग वधावन (Sarang Wadhawan) को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करने के बंबई उच्च न्यायालय के फैसले पर बृहस्पतिवार को रोक लगा दी. बंबई उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बुधवार को राकेश वधावन और सारंग वधावन को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करने का आदेश दिया था.

यह भी पढ़ें: Budget 2020: नौकरीपेशा करदाताओं को बजट में मिल सकती है ये बड़ी खुशखबरी, पढ़ें पूरी खबर

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आर्थिक अपराध शाखा ने सुप्रीम कोर्ट में दी थी चुनौती
प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आर्थिक अपराध शाखा ने उच्च न्यायालय के इस फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी थी. राकेश वधावन और सारंग वधावन को सात हजार करोड़ रुपये के पंजाब एंड महाराष्ट्र कॉपरेटिव (पीएमसी) घोटाले (PMC Bank Scam) के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने मुख्य न्यायधीश एस.ए.बोबड़े की अगुवाई वाली पीठ के समक्ष इस मामले को रखा। पीठ में न्यायमूर्ति बी.आर.गवई और न्यायमूर्ति सूर्य कांत भी शामिल थे.

यह भी पढ़ें: Budget 2020: बजट में होम लोन के ब्याज पर टैक्स को लेकर हो सकता है बड़ा फैसला

मेहता ने पीठ को बताया कि राकेश वधावन और सारंग वधावन को आर्थर रोड जेल से आवास में स्थानांतरित करना दोनों को जमानत देने जैसा होगा. उन्होंने इस फैसले पर रोक लगाने की उच्चतम न्यायालय से मांग की. मेहता ने कहा कि उनकी आपत्ति सिर्फ दोनों प्रवर्तकों को आवास में स्थानांतरित करने को लेकर है. उन्होंने कहा कि बंबई उच्च न्यायालय द्वारा नियुक्त समिति की निगरानी में प्रवर्तकों की संपत्तियों की बिक्री से संबंधित आदेश को लेकर उन्हें कोई आपत्ति नहीं है. उच्चतम न्यायालय ने मेहता की दलीलों को स्वीकार किया और राकेश और सारंग को जेल से आवास में स्थानांतरित करने के आदेश पर रोक लगा दी.

First Published: Jan 16, 2020 02:13:14 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो