'पद्मावत' के खिलाफ MP और राजस्थान सरकार, SC में दाखिल करेंगे पुनर्विचार याचिका

राजस्थान और मध्य प्रदेश ने 'पद्मावत' की रिलीज के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटया है।

  |   Updated On : January 21, 2018 01:39 PM
फिल्म पद्मावत में शाहिद कपूर और दीपिका पादुकोण (फाइल फोटो)

फिल्म पद्मावत में शाहिद कपूर और दीपिका पादुकोण (फाइल फोटो)

नई दिल्ली :  

संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' की मुश्किलें खत्म होती नजर नहीं आ रही है शूटिंग के दिनों से ही करणी सेना के निशाने पर आई फिल्म को लेकर नए विवाद खड़े हो रहे है

बीजेपी शासित राज्यों में बैन हुई 'पद्मावत' की रिलीज का रास्ता साफ़ करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से इंकार कर दिया था इसी बीच राजस्थान और मध्य प्रदेश ने 'पद्मावत' की रिलीज के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटया है। दोनों राज्य की सरकारें सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दाखिल करेंगे

राजस्थान सरकार के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा, 'सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फिल्म पर प्रतिबंध के निर्णय के विरूद्व पुनर्विचार याचिका दायर करने का निर्णय लिया है उन्होंने कहा कि पुनर्विचार याचिका को दायर की जाएगी

राजस्थान सरकार के एडिशनल एडवोकेट जनरल ने कहा, 'राजस्थान सरकार सुप्रीम कोर्ट से फैसले की समीक्षा करने और प्रदेश में रिलीज रुकवाने के लिए सोमवार को सुप्रीम कोर्ट जाएगी।'

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा, 'हम फिर सुप्रीम कोर्ट की शरण में जाएंगे'

भंसाली के पत्र को जला देंगे: करणी सेना

श्री राजपूत करणी सेना के लोकेन्द्र सिंह कालवी ने कहा कि संजय लीला भंसाली ने श्री राजपूत करणी सेना और श्री राजपूत सभा को एक पत्र भेजा है, लेकिन यह मूर्ख बनाने के लिये भेजा गया है इस पत्र को जला दिया जायेगा और इसका कोई जवाब नहीं दिया जायेगा

उन्होंने कहा कि इसमें कुछ नहीं है बल्कि यह फिल्म निर्माता द्वारा एक नाटक है इसमें फिल्म की प्रदर्शन की कोई तारीख नहीं दे रखी है भंसाली ने करणी सेना औऱ राजपूत सभा को फिल्म देखने का न्योता भेजा था।

भंसाली को ओर से भेजे गए न्योते में लिखा है कि फिल्म 'पद्मावत' में पद्मावती और अलाउद्दीन खिलजी के बीच कोई भी ड्रीम सीन नहीं है। इस सीन के विरोध में दोनों संगठन फिल्म का विरोध कर रही है।

'पद्मावत' में दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर अहम भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म का पहले से ही विरोध हो रहा है। कई शहरों में मूवी की रिलीज रोकने की मांग हो रही है।

गौरतलब है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' पहले 1 दिसंबर 2017 को रिलीज होने वाली थी, लेकिन विवाद बढ़ता देख इसकी रिलीज टाल दी गई। आरोप है कि इस फिल्म में इतिहास से छेड़छाड़ की गई है।

और पढ़ें: रामगोपाल वर्मा की बोल्ड फिल्म को बैन करने की उठी मांग, प्रदर्शनकारियों ने जलाये पोस्टर

गुजरात मल्टीप्लेक्स सिनेमा के मालिकों ने पीछे खींचे कदम

करणी सेना ने फिल्म के विरोध में कल जमकर तोड़-फोड़ की गुजरात के बनासकांठा और धानेरा में करणी सेना के प्रदर्शनकारियों ने आगजनी की। फरीदाबाद में फिल्म के विरोध में मल्टीप्लेक्स के टिकट काउंटर में आग लगा दी। इस घटना के बाद लोग डरे हुए है और सिनेमाघर मालिकों ने गुजरात में फिल्म को रिलीज न करने का फैसला लिया है

बॉम्बे हाईकोर्ट ने पूछा सवाल

फिल्म के कलाकारों और निर्देशक को मिलती धमकियों पर बॉम्बे हाई कोर्ट भी नाराजगी जाहिर कर चूका है। कोर्ट ने इस मामले पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा था कि देश में 'पद्मावती' के रिलीज को लेकर धमकियां क्यों दी जा रही है। अभिनेत्री दीपिका पादुकोण की हत्या के लिए खुलेआम इनाम की घोषणा क्यों की जा रही है ?

और पढ़ें: Filmfare Awards 2018: विद्या बालन और इरफ़ान को मिला बेस्ट एक्टर अवॉर्ड, राजकुमार राव ने भी जीता दिल

घूमर गाने पर करणी सेना ने मध्य प्रदेश के स्कूल में की तोड़-फोड़
मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एक स्कूल के वार्षिकोत्सव के दौरान एक बच्ची द्वारा फिल्म 'पद्मावत' के 'घूमर' गाने पर डांस करने पर एक नया बवाल खड़ा हो गया।

इसके विरोध में करणी सेना के सदस्यों ने स्कूल में हंगामा किया और जमकर तोड़फोड़ की। राजपूत संगठन से लेकर राजनीतिक जगत तक फिल्म के खिलाफ आवाजें उठ रही है।

और पढ़ें: 'पद्मावत' का भारी विरोध, गुजरात-फरीदाबाद में आगजनी, 30 प्रदर्शनकारी गिरफ्तार

First Published: Sunday, January 21, 2018 12:42 PM

RELATED TAG: Padmaavat, Supreme Court, Rajasthan, Madhya Pradesh,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो