अर्थव्यवस्था में नरमी की वजह से फरवरी में वाहनों की बिक्री 19.08 फीसदी घटी

Bhasha  |   Updated On : March 13, 2020 01:02:22 PM
Cars

Vehicles Sales Down (Photo Credit : फाइल फोटो )

दिल्ली:  

देश में विभिन्न श्रेणियों में वाहनों की थोक बिक्री में फरवरी में 19.08 प्रतिशत की गिरावट रही. इसकी प्रमुख वजह आर्थिक नरमी के चलते कमजोर पड़ती मांग और वाहन उत्पादन को बीएस-6 (BS-6) के अनुरूप बनाने की वजह से बीएस-4 वाहनों का उत्पादन घटना है. वाहन विनिर्माता कंपनियों के अखिल भारतीय संगठन ‘सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चर्स’ (सियाम-SIAM) ने शुक्रवार को फरवरी के वाहन बिक्री आंकड़े जारी किए. इसके अनुसार फरवरी में विभिन्न श्रेणियों में कुल 16,46,332 वाहन बिके जबकि फरवरी 2019 में यह आंकड़ा 20,34,597 वाहन था.

यह भी पढ़ें: टेलीकॉम कंपनियों को AGR के पेमेंट के लिए मिल सकता है 15 साल का समय, सूत्रों के हवाले से खबर

आर्थिक नरमी और बीएस-4 वाहनों का उत्पादन घटने से आई गिरावट

सियाम के अध्यक्ष राजन वढेरा ने एक बयान में कहा कि कंपनियों की थोक बिक्री में गिरावट की प्रमुख वजह आर्थिक नरमी और बीएस-4 वाहनों का उत्पादन घटना है. ‘वाहन’ पोर्टल पर मौजूद पंजीकृत वाहनों की संख्या के आधार पर बीएस-4 वाहनों की अंतिम समय की खरीद में कुछ बढ़ोत्तरी हो सकती है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते चीन से कलपुर्जों की बाधित आपूर्ति भी चिंता का कारण है. इससे कंपनियों की उत्पादन योजनाओं पर असर पड़ सकता है. हालांकि कोरोना वायरस महामारी के लिए सरकार का ‘फोर्स मैजेयर’ की अधिसूचना जारी करना और सभी तरह के सीमा शुल्क केंद्रों पर आयात के लिए चौबीसों घंटे की मंजूरी सुविधा शुरू करना एक स्वागत योग्य कदम है.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने सरकारी कर्मचारियों को दिया बड़ा तोहफा, इतना बढ़ा महंगाई भत्‍ता

यात्री वाहनों की घरेलू बिक्री 7.61 प्रतिशत घटी

‘फोर्स मैजेयर’ अनुबंधों में शामिल किया जाने वाला एक कानूनी प्रावधान है. यह प्रावधान संबंधित पक्षों को उनके नियंत्रण से बाहर की कोई परिस्थिति बनने की स्थिति में अनुबंध की कानूनी बाध्यताओं से राहत प्रदान करता है. रपट के अनुसार समीक्षावधि में यात्री वाहनों की घरेलू बिक्री 7.61 प्रतिशत गिरकर 2,51,516 वाहन रही जो फरवरी 2019 में 2,72,243 वाहन थी. कारों की बिक्री 8.77 प्रतिशत घटकर 1,56,285 वाहन रही जो पिछले साल फरवरी में 1,71,307 वाहन थी. देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया की वाहन बिक्री फरवरी में 2.34 प्रतिशत घटकर 1,33,702 वाहन रही. वहीं उसकी प्रतिद्वंदी कंपनी हुंदै मोटर इंडिया की बिक्री में भी 7.19 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी और यह 40,010 वाहन रही.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने यस बैंक के रीस्ट्रक्चरिंग स्कीम को मंजूरी दी, 6 फीसदी से ज्यादा उछला शेयर

दोपहिया श्रेणी में फरवरी में बिक्री 19.82 प्रतिशत की गिरावट

बाजार में नयी आने वाली किआ मोटर्स बिक्री के मामले में तीसरे स्थान पर रही. फरवरी में कंपनी ने 15,644 वाहन बेचे. दोपहिया श्रेणी में फरवरी में बिक्री 19.82 प्रतिशत गिरकर 12,94,791 इकाई रही. पिछले साल फरवरी में 16,14,941 दोपहिया वाहन बिके थे. सबसे बड़ी दोपहिया वाहन विनिमर्मा हीरो मोटोकॉर्प की कुल दोपहिया वाहन बिक्री फरवरी में 20.05 प्रतिशत घटकर 4,80,196 वाहन रही, जबकि प्रतिद्वंदी होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया का बिक्री 22.83 प्रतिशत गिरकर 3,15,285 वाहन रही. इसी तरह चेन्नई की टीवीएस मोटर कंपनी की बिक्री फरवरी में 26.73 प्रतिशत टूटकर 1,69,684 वाहन रही.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के डर के बीच आई ये बड़ी खुशखबरी, खुदरा महंगाई घटी, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन भी सुधरा

मोटरसाइकिलों की बिक्री में भी गिरावट दर्ज की गयी है. फरवरी में यह 22.02 प्रतिशत गिरकर 8,16,679 मोटरसाइकिल रही जो पिछले साल फरवरी में 10,47,356 वाहन थी. स्कूटर की बिक्री 14.27 प्रतिशत की गिरावट के साथ फरवरी में 4,22,310 वाहन रही जो फरवरी 2019 में 4,92,584 इकाई थी. सियाम के मुताबिक वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री फरवरी में 32.9 प्रतिशत गिरकर 58,670 वाहन रही जो पिछले साल फरवरी में 87,436 वाहन थी.

First Published: Mar 13, 2020 01:02:23 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो