BREAKING NEWS
  • J&K में आर्टिकल-370 खत्म होने से अधिकार घटे नहीं बढ़े हैं, प्रतिबंधों की बात बेमानी; SC में बोले तुषार मेहता- Read More »

अनुच्छेद 370 की आड़ में प्रधानमंत्री मोदी का कांग्रेस-NCP पर बड़ा हमला, बोले- इनके लिए परिवारवाद ही राष्ट्रवाद

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : October 16, 2019 02:11:28 PM
महाराष्ट्र में पीएम मोदी की रैली

महाराष्ट्र में पीएम मोदी की रैली (Photo Credit : फोटो- ट्विटर )

नई दिल्ली:  

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी गुरुवार को पारतुर में रैली को संबोधित कर रहे हैं. इस दौरान उन्होंने कहा, जितना स्नेह और प्रेम आज यहां देखने को मिल रहा है, उससे स्पष्ट है कि महाजनादेश किस तरफ जा रहा है. राष्ट्रवाद और राष्ट्रभक्ति को लेकर हमेशा ही महाराष्ट्र से आवाजें उठी हैं. लेकिन दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र के इन संस्कारों को कांग्रेस-एनसीपी के नेता हर मौके पर, हर मंच पर ठेस पहुंचाते हैं. ये आपकी भावनाओं को समझने के लिए भी तैयार नहीं हैं. 

यह भी पढ़ें: अयोध्या मामला: ये 5 जज देंगे देश के सबसे विवादित मुकदमे पर फैसला

उन्होंने कहा, राष्ट्रहित और राष्ट्र रक्षा के मुद्दों पर हम सभी का एक ही सुर होना चाहिए. दुनिया को एक ही आवाज सुनाई देनी चाहिए. लेकिन हर बात में राजनीति की रोटियां सेंकने वाले ये नेता, देशहित की, राष्ट्रहित की इतनी सरल बात को भी मानने के लिए तैयार नहीं है. कांग्रेस पार्टी ने ये स्वीकार कर लिया है कि आज की कांग्रेस आजादी के दीवानों वाली, देशभक्तों वाली कांग्रेस नहीं है. परिवारवाद के बोझ के नीचे कांग्रेस का राष्ट्रवाद दब गया है. परिवारवाद में ही कांग्रेस को राष्ट्रवाद नजर आता है.

उन्होंने कहा, अब जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर भी इनका रवैया राष्ट्र के विपरीत है. मैं NCP और कांग्रेस वालों से कहना चाहता हूं कि अगर 370 से इन्हें इतना प्रेम हैं तो जहां हमने उसे दफनाया है, वहां जाकर उसे चादर उढ़ा कर आ जाओ.

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र: प्रचार के दौरान शिवसेना सांसद पर चाकू से हमला, बाल-बाल बचे

पीएम मोदी ने कहा, जमीन पर इन दोनों दलों के कार्यकर्ता, विशेषतौर पर इनके युवा साथी भी ये कहते हैं कि 370 और जम्मू कश्मीर के मुद्दों पर देश की भावना के साथ, मोदी के साथ खड़ा होना चाहिए, तो ऐसे लोगों के मुंह पर ताले लगा दिए जाते हैं. पीएम मोदी ने कहा, कांग्रेस और एनसीपी ने दिल्ली और महाराष्ट्र में लंबे समय तक एक साथ शासन किया है. हर काम में भागीदार हैं. लेकिन इन दोनों दलों की नीति, निष्ठा और नीयत में हमेशा खोट रहा है.

First Published: Oct 16, 2019 01:50:17 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो