महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में BJP, 5 नवंबर के लिए बुक किया गया वानखेड़े स्टेडियम

न्यूज स्टेट ब्यूरो  |   Updated On : November 01, 2019 06:25:28 PM
सीएम देवेंद्र फडणवीस

सीएम देवेंद्र फडणवीस (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

नई दिल्ली:  

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर बीजेपी और शिवसेना के बीच खींचतान जारी है. इस बीच भाजपा ने शपथ ग्रहण समारोह के लिए मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम को बुक भी कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि बीजेपी ने 5 नवंबर के लिए वानखेड़े स्टेडियम को बुक किया है. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) से इजाजत के बाद स्टेडियम शपथ ग्रहण के लिए बीजेपी को मिल सकेगा. बता दें कि 8 नवंबर से वानखेड़े में मैच भी हैं.

यह भी पढ़ेंः EC का ऐलान- पांच चरणों में होंगे झारखंड विधानसभा चुनाव, 23 दिसंबर को आएंगे नतीजे

इससे पहले मुंबई पुलिस और अधिकारियों की टीम ने शुक्रवार को वानखेड़े स्टेडियम का निरीक्षण किया. पहले महालक्ष्मी रेसकोर्स को शपथ ग्रहण के लिए चुना गया था, लेकिन मुंबई पुलिस की रिपोर्ट के बाद जगह बदलने का फैसला किया गया. वहीं, महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर खींचतान के बीच बीजेपी की सहयोगी शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर अड़ी है. वहीं, महाराष्ट्र के निवर्तमान मुख्यमंत्री और भाजपा के नेता देवेंद्र फडणवीस किसी भी मोर्चे पर पीछे हटने को तैयार नहीं हैं. बीजेपी ने साफ कर दिया है कि वह गृह और वित्त समेत कई महत्वपूर्ण मंत्रालय भी अपने पास ही रखेगी.

सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी शिवसेना को कैबिनेट में 14 सीटें देना चाहती है, लेकिन शिवसेना 18 सीटों की मांग कर रही है. साथ ही शिवसेना महत्वपूर्ण मंत्रालय भी मांग रही है, जबकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने साफ कहा है कि वे गृह और शहरी विकास जैसे प्रमुख मंत्रालयों का बंटवारा नहीं करेंगे.

सूत्रों का कहना है कि भाजपा शिवसेना को फाइनेंस या पीडब्ल्यूडी जैसे मंत्रालय देने पर विचार कर रही है, लेकिन बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि ये अहम मंत्रालय शिवसेना को न दिए जाएं. वहीं, बीजेपी ने यह भी प्रस्ताव दिया है कि अगर शिवसेना चाहे तो अपने किसी नेता को डिप्टी सीएम जैसे अहम पद पर भी बैठा सकती है. जब 2014 में शिवसेना देवेंद्र फडणवीस सरकार में शामिल हुई थी, उस समय 26:13:04 का फॉर्मूला लागू हुआ था. कैबिनेट में भाजपा को 26 मंत्रालय, शिवसेना को 13 और अन्य सहयोगियों को 4 मंत्रालय आवंटित किए गए थे. 288 सीटों वाली विधानसभा में अधिकतम 43 मंत्री ही हो सकते हैं.

शिवसेना ने 21:18:04 के फॉर्मूले का प्रस्ताव दिया है, लेकिन बीजेपी कैबिनेट में इतनी सीटें देने को राजी नहीं है. दोनों पार्टियों के बीच अब भी बातचीत जारी है. शुरुआत में 1995 की तरह के फॉर्मूले का प्रस्ताव भी आया था. 1995 में शिवसेना का मुख्यमंत्री बना था, जबकि बीजेपी को उपमुख्यमंत्री पद के साथ गृह, वित्त और पीडब्ल्यूडी जैसे अहम मंत्रालय दिए गए थे. हालांकि, बातचीत की शुरुआत में ही यह फार्मूला रद्द हो गया.

यह भी पढ़ेंः मौलाना फजल के आजादी मार्च के खिलाफ इमरान खान ने 'भारत कार्ड' खेला, जानें क्या कहा

बता दें कि इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने नए बयान में कहा कि 'महाराष्ट्र की कुंडली तो हम ही बनाएंगे. कुंडली में कौन सा ग्रह कहां रखना है और कौन से तारे जमीन पर उतारने हैं, किस तारे को चमक देना है, इतनी ताकत आज भी शिव सेना के पास है.' उन्होंने ये भी कहा कि व्यक्तिगत फायदा मायने नहीं रखता है, राज्य जरूरी है. जिससे यह माना जा रहा है कि बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) को सत्ता में सहयोग का फॉर्मूला मिल चुका है.

उन्होंने आगे कहा कि जिस पार्टी किसी के पास 145 का बहुमत है, चाहे वह कोई भी राजनेता या विधायक हो, महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बन सकता है. राज्यपाल 145 या सबसे बड़ी पार्टी का आंकड़ा रखने वाले को आमंत्रित करेंगे, लेकिन उन्हें सदन के पटल पर बहुमत साबित करना होगा. साथ ही संजय राउत ने कहा कि बीजेपी के साथ उनका गठबंधन चल रहा है.

First Published: Nov 01, 2019 06:19:22 PM
Post Comment (+)

LiveScore Live Scores & Results

न्यूज़ फीचर

वीडियो