दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने मैदान छोड़ा, अन्य संगठनों की बढ़ी भागीदारी

News State  |   Updated On : January 26, 2020 12:19:02 PM
दिल्ली में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने मैदान छोड़ा, अन्य संगठनों की बढ़ी भागीदारी

सांकेतिक चित्र (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के तैयार नहीं होने के बाद नए चेहरों को मौका.
  •  युवा कांग्रेस, एनएसयूआई और महिला कांग्रेस की चुनाव में भागीदारी बढ़ी.
  •  कांग्रेस ने दिल्ली में अन्य की तुलना में 10 महिलाओं को टिकट दिया है.

नई दिल्ली:  

महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड के चुनावों के दौरान टिकट वितरण से मायूस युवा कांग्रेस, एनएसयूआई और महिला कांग्रेस की दिल्ली विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों के चयन में भागीदारी बढ़ी है. इसकी एक बड़ी वजह कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं का चुनाव लड़ने की अनिच्छा जाहिर करना है. कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि कई ऐसी सीटें हैं, जहां पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के तैयार नहीं होने के बाद नए चेहरों को मौका दिया गया है. पार्टी की ओर से नए चेहरों को मौका दिए जाने का सबसे ज्यादा फायदा कांग्रेस की युवा इकाई भारतीय युवा कांग्रेस को मिला है. उसकी अनुशंसा पर कुल छह उम्मीदवारों को टिकट मिला है. एनएसयूआई की अनुशंसा पर एक टिकट मिला है.

यह भी पढ़ेंः Republic Day 2020: 71वें गणतंत्र दिवस परेड की 10 प्रमुख बातें

यूथ कांग्रेस के उम्मीदवार
सूत्रों के मुताबिक युवा कांग्रेस के कोटे से अमनदीप सूदन (राजौरी गार्डन), सुभम शर्मा (तुगलकाबाद), महेंद्र चौधरी (महरौली), सिद्धार्थ कुंडू (नरेला) और गौरव धनक (करोलबाग) है. युवा कांग्रेस के एक पदाधिकारी ने बताया कि कांग्रेस की मीडिया पैनलिस्ट राधिका खेड़ा के नाम की अनुशंसा भी कांग्रेस की युवा इकाई की तरफ से की गई थी. राधिका जनकपुरी विधानसभा सीट से उम्मीदवार हैं. एनएसयूआई कोटे से रॉकी तूसीद को राजेन्द्र नगर से उम्मीदवार बनाया गया है. तूसीद दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं.

यह भी पढ़ेंः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांधा केसरिया रंग का 'बंधेज साफा', परंपरा रखी बरकरार

10 महिलाओं को भी दिया टिकट
युवा कांग्रेस के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बताया, 'दिल्ली चुनाव से पहले जिन तीन राज्यों में चुनाव हुए वहां हमें उम्मीद के मुताबिक टिकट नहीं मिले थे, जबकि इन राज्यों में सीटों की संख्या भी यहां से ज्यादा थी. दिल्ली में कांग्रेस 66 सीटों पर लड़ रही है और इनमें छह उम्मीदवार हमारे कोटे से हैं.' इससे पहले महाराष्ट्र चुनाव में युवा कांग्रेस की अनुशंसा पर तीन और हरियाणा एवं झारखंड में एक-एक टिकट मिले थे. दिल्ली चुनाव में अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की दो वरिष्ठ पदाधिकारियों नीतू वर्मा (मालवीय नगर) और आकांक्षा ओला को (मॉडल टाउन) उम्मीदवार बनाया गया है. इस बार, कांग्रेस ने दिल्ली में कुल 10 महिलाओं को टिकट दिया है जो भाजपा और आप की तुलना में अधिक है.

यह भी पढ़ेंः जिस फिरोज खान की BHU में नियुक्ति पर मचा था बवाल, उनके पिता को मिला पद्मश्री

कई बड़े नेताओं ने किया किनारा
कांग्रेस के अनुसूचित विभाग के वरिष्ठ पदाधिकारी एसपी सिंह को गोकलपुर और पार्टी के असंगठित कामगार प्रकोष्ठ के प्रमुख अरविंद सिंह को करावल नगर से टिकट मिला है. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, 'कई सीटों पर हम चाहते थे कि हमारे वरिष्ठ नेता चुनाव लड़ें, लेकिन कुछ नेता किन्ही कारणों से चुनाव नहीं लड़ सके तो हमने नए चेहरों पर भरोसा जताया.' खबरों के मुताबिक जिन वरिष्ठ नेताओं ने चुनाव लड़ने से अनिच्छा जताई उनमें अजय माकन, जेपी अग्रवाल, हसन अहमद, नसीब सिंह और कुछ अन्य नेता शामिल हैं.

First Published: Jan 26, 2020 12:19:02 PM

न्यूज़ फीचर

वीडियो