दिल्ली विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगा अकाली दल, सीएए पर बीजेपी का छोड़ा साथ

  |   Updated On : January 20, 2020 07:44:56 PM
शिरोमणि अकाली दल नहीं लड़ेगी दिल्ली विधानसभा चुनाव.

शिरोमणि अकाली दल नहीं लड़ेगी दिल्ली विधानसभा चुनाव. (Photo Credit : न्यूज स्टेट )

ख़ास बातें

  •  दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी और अकाली दल के रास्ते अलग-अलग.
  •  सीएए पर सुखबीर सिंह बादल के रुख में बदलाव करने की मांग नहीं मानी.
  •  शिरोमणि अकाली दल एनआरसी के लागू करने के भी खिलाफ.

नई दिल्ली:  

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर मतभेदों के चलते दिल्ली विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और उसकी पुरानी सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल के रास्ते अलग-अलग हो गए हैं. इसके परिणामस्वरूप शिरोमणि अकाली दल ने दिल्ली विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है. हालांकि पार्टी ने गठबंधन में शामिल रहने की बात करते हुए इसका फैसला हाईकमान पर छोड़ दिया है. गौरतलब है कि शिरोमणि अकाली दल ने नागरिकता संशोधन कानून का स्वागत करते हुए इसके दायरे में मुसलमानों को भी शामिल करने की मांग की थी. 

यह भी पढ़ेंः देश के 63 अरबपतियों के पास भारत के बजट से भी अधिक संपत्ति, रिपोर्ट में खुलासा

एनआरसी के भी खिलाफ है शिरोमणि अकाली दल
इस बात की जानकारी देते हुए मनजिंदर सिरसा ने कहा कि बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल के पुराने औऱ गहरे संबंध हैं. हालांकि नागरिकता संशोधन कानून पर सुखबीर बादल के इसके दायरे में सभी धर्मों के लोगों को शामिल करने के रुख पर पूरी पार्टी एकमत है. ऐसे में बीजेपी चाहती थी कि हम सीएए पर अपना रुख बदले. ऐसे में हमने अपने रुख में बदलाव करने की अपेक्षा दिल्ली विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल एनआरसी के लागू करने के भी खिलाफ है, लेकिन हमने सीएए का स्वागत किया था. सिर्फ मुसलमानों को भी इसमें शामिल करने की बात कही थी.

यह भी पढ़ेंः शाहीन बाग के CAA प्रदर्शनकारियों को मिला नजीब जंग का साथ, कहा - बदला जाए कानून

देश को धर्म के नाम पर नहीं बांटा जा सकता
उन्होंने कहा कि देश को धर्म और जात-पात के नाम पर बांटा नहीं जा सकता. हम इस चुनाव को लड़ना नापसंद करेंगे, बजाय अपने सिद्धांतों से समझौता करने के. महज धर्म के नाम पर बाहर निकालना अमानवीय होगा, इसलिए अकाली दल का फैसला है कि हम अपना रुख नहीं बदलेंगे. सीएए पर मतभेदों की वजह से दिल्ली में अकाली दल ने बीजेपी का साथ छोड़ा है. गठबंधन पर कोई फैसला नहीं हुआ है, वह हाईकमान तय करेगा. फिलहाल दिल्ली में अकाली दल चुनाव नहीं लड़ेगा. सीटों को लेकर किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं है, विवाद केवल सीएए पर है.

First Published: Jan 20, 2020 07:21:34 PM
Post Comment (+)

न्यूज़ फीचर

वीडियो