पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर शहबाज शरीफ का आरोप, कहा- चुनावों में गड़बड़ी कर सत्ता में पहुंचे

| Last Updated:

इस्लामाबाद:

पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के अध्यक्ष शहबाज शरीफ ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर आरोप लगाते हुए कहा कि वे आम चुनावों में धोखाधड़ी कर सत्ता में पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि आम चुनावों में कथित धोखाधड़ी की जांच के लिए इमरान खान ने अब तक वादे के अनुरूप संसदीय कमेटी नहीं बनाई। शहबाज शरीफ ने कहा कि इमरान खान सत्ता में वोट के जरिये नहीं आए हैं बल्कि धोखाधड़ी कर आए हैं।

शरीफ ने कहा कि विपक्षी पार्टियों के चुनाव में गड़बड़ी के आरोपों के बाद इमरान खान ने उन्हें आश्वासन दिया कि एक संसदीय आयोग बनाकर इसकी जांच करायी जाएगी।

उन्होंने कहा, 'तीन हफ्ता गुजर चुका है और अब तक संसदीय आयोग का गठन नहीं किया गया है। हमें सुनिश्चित करेंगे कि किसी भी कीमत पर एक आयोग का गठन किया जाय। प्रधानमंत्री इमरान को वादे को पूरा करना चाहिए। मैंने जिम्मेदारी के लिए खुद को देश के सामने लाया हूं।'

जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भाई और पीएमएल-एन के अध्यक्ष 25 जुलाई को हुए आम चुनाव के बाद ही लगातार गड़बड़ियों के आरोप लगा रहे हैं।

पिछले महीने नेशनल असेंबली में प्रधानमंत्री उम्मीदवार के लिए इमरान खान से हारने के बाद अपने भाषण में शरीफ ने चुनाव परिणामों के ऑडिट कराने की मांग की थी। उन्होंने चुनावों की वैधता पर सवाल उठाए थे और कहा था कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार इस समस्या को सुलझाने में नाकाम रहती है तो विपक्षी पार्टियों के साथ वह व्यापक प्रदर्शन करेंगे।

और पढ़ें : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की जीत के खिलाफ याचिका, लाहौर हाई कोर्ट ने 69 नेशनल असेंबली सदस्यों को भेजा नोटिस

शरीफ ने कहा था कि, 'हमारे पास सड़कों पर प्रदर्शन करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचेगा। चुनाव में एक राजनीतिक पार्टी को निशाना बनाया गया।'

इमरान खान को संसद के 342 सदस्यों वाले निम्न सदन में सरकार बनाने के लिए 172 वोटों की जरूरत थी। खान को नेशनल असेंबली में कुल 176 वोट हासिल हुए थे, वहीं शहबाज शरीफ को 96 सांसदों का समर्थन हासिल हुआ था। इमरान खान ने 18 अगस्त को पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिया था।

First Published: