Friendship Day 2018: क्या आप जानते हैं, फ्रेंडशिप डे की शुरुआत कैसे हुई थी, यहां पढ़ें...

| Last Updated:

नई दिल्ली:

कहते हैं कि फैमिली के बाद सबसे ज्यादा अहमियत दोस्तों की होती है। सोचिए, अगर आपके पास दोस्त नहीं हैं, तो जिंदगी कितनी बेरंग और नीरस होगी। इनके बिना जीवन अधूरा-सा लगता है। यह हमारे लिए कितने खास होते हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अगस्त का पहला रविवार सिर्फ दोस्तों के नाम होता है। जी हां, इस साल 5 अगस्त को लोग Friendship day सेलिब्रेट करेंगे, लेकिन क्या आपको पता है कि इसकी शुरुआत कब और कैसे हुई? अगर नहीं, तो आइये जानते हैं इस खास दिन के बारे में...

अगस्त के पहले रविवार को 'फ्रेंडशिप डे' मनाया जाता है। वैसे तो इस दिन को मनाने का चलन पश्चिमी देशों से शुरू हुआ था, लेकिन भारत में भी इसे धूमधाम से मनाया जाता है। 'फ्रेंडशिप डे' पर दोस्त एक-दूसरे को बैंड्स, ग्रीटिंग कार्ड्स और गिफ्ट्स देते हैं। अगर दोस्त दूर-दूर हैं तो उन्हें सोशल मीडिया के जरिए बधाई देते हैं।

ये भी पढ़ें: Friendship Day 2018: इन ख़ास SMS के जरिये अपने दोस्तों को करें विश

ऐसे हुई थी 'फ्रेंडशिप डे' की शुरुआत

'फ्रेंडशिप डे' की शुरुआत 1935 में अमेरिका से हुई थी। खबरों की मानें तो अमेरिकी सरकार ने अगस्त के पहले रविवार को एक निर्दोष व्यक्ति को मार दिया गया था। इस घटना के बाद उसके दोस्त को इतना ज्यादा दुख हुआ कि दोस्त को खोने के गम में उसने आत्महत्या कर ली। इसके बाद दक्षिणी अमेरिकी लोगों ने अमेरिकी सरकार के सामने इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे (International Friendship Day) मनाने का प्रस्ताव रखा।

पहले तो अमेरिकी सरकार ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था, लेकिन लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ। इसीलिए 21 साल बाद 1958 में यह प्रस्ताव मंजूर कर लिया गया। इसके बाद से ही अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाने का चलन शुरू हुआ।

अगर भारत की बात करें तो यहां साल 2000 के बाद से 'फ्रेंडशिप डे' का ट्रेंड शुरू हुआ था। धीरे-धीरे लोगों ने इस दिन को हर साल मनाना शुरू कर दिया।

ये भी पढ़ें: Friendship day:फ्रेंडशिप डे लीजिए ये चेलैंज, अपने BFF को करें सरप्राइज

First Published: