SC/ST Act Bharat Bandh, LIVE Madhya Pradesh: टीकमगढ़ में प्रदर्शनकारियों ने किया हंगामा, प्रशासन ने गिरफ्तारी के दिए आदेश

| Last Updated:

नई दिल्ली:

मोदी सरकार की तरफ से एससी/एसटी एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध में सवर्ण संगठनों ने आज (गुरुवार) को भारत बंद का ऐलान किया है। बंदी को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। भारत बंद के तहत मध्य प्रदेश सबसे संवेदनशील बना हुआ है, जहां पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद हैं। इस राज्य में एससी-एसटी एक्ट को लेकर सबसे ज्यादा विरोध हो रहा है।

LIVE अपडेट्सः

# कटनीः भारत बंद के समर्थन में कटनी जिला पूर्ण रूप से बंद , व्यापारियों व आम जन बंद का अनोखा तरीका। अंधा कानून का गाना गाते शहर के प्रमुख्य मार्गो से रैली निकाल रहे लोग।

# टीकमगढ़ः  बाजार बंद के दौरान टीकमगढ़ में हंगामा। बीच बाजार में सैकड़ों युवा बाजार बंद कराने निकले। धारा 144 का किया खुला उलंघन। प्रदर्शनकारियों ने कलेक्टर के वाहन को रोका। प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी के लिए कलेक्टर ने दिए आदेश।

# भोपालः भोपाल में आज सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक बंद रहेंगें सारें पेट्रोल पंप।

Bhopal: Petrol pumps to remain closed from 10am to 4pm today in view of #BharatBandh. #MadhyaPradesh pic.twitter.com/itRG23CgGb

— ANI (@ANI) September 6, 2018

# भोपालः राजधानी में बोर्ड ऑफिस चौराहे पर करणी सेना और ब्रह्म समागम संस्था का प्रदर्शन। सरकार को चूड़ियां भेंट करने पहुंची करणी सेना की महिला कार्यकर्ता।

# खंडवा: देश भर में हो रहे एससी एसटी ऐक्ट के विरोध को लेकर शिवराज ने कहा की मध्य प्रदेश शांति का टापू है । शांति भंग नहीं होंने देंगे। हमारा, सबको साथ लेकर चलने का संकल्प है। सबको सम्मान देंगे सबसे बात करेंगे सबको न्याय देना का काम करेंगे। हमारा देश एक बग़ीचा है कई फूल है सबको खिलने का अधिकार है।

# रीवाः एससी एसटी को लेकर रीवा में हुआ जमकर प्रदर्शन। सर्वदलीय एकता बैनर तले 300 से ज्यादा आंदोलनकारियों ने कंट्रोल रूम में घुसने का प्रयास किया। एक कार्यकर्ता की गिरफ्तारी से थे नाराज, स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में शहर के चप्पे-चप्पे पर तैनात हैं पुलिस। दुकानें, पेट्रोल पंप, स्कूल कालेज सभी बंद हैं।

और पढ़ेंः SC/ST Act Bharat Bandh, LIVE Uttrakhand: भारत बंद के दौरान प्रदर्शनकारियों ने सरयू पुल पर लगाया जाम, DM समेत कई अधिकारी जाम में फंसे

# दमोहः सवर्णों के भारत बंद में दमोह बंद भी शामिल है। जिले में धारा 144 लागू कर दी है। सभी दुकानें बंद हैं। पान की गुमटी और चाय की दुकानें भी बंद हैं। सपाक्स को जमकर मिला समर्थन सड़कों पर आकर लोग सरकार के विरोध में कर रहे हैं नारेबाजी।

# उज्जैनः एससी एसटी एक्ट के विरोध में सवर्णों ने किया भारत बंद। सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती। उज्जैन में कर्णी सेना ने भी आंदोलन का नेतृत्व करने वाली स्पाक्स संस्था को समर्थन दे रही है। पुलिस की कड़ी सुरक्षा के बीच उज्जैन बंद किया गया है।

# देवासः भारत बंद  को लेकर देवास में सुबह से ही छोटी मोटी दुकाने बाजार पूरी तरह से बंद। पुलिस जगह जगह तैनात। स्वेछा लोगो ने बंद रखा। पुलिस पेट्रोलिंग वाहनो से रख रही है शहर में नजर। 

# शहडोलः sc/st  के विरोध में शहडोल में भी विभिन्न संगठनों के द्वारा बन्द का आह्वान किया गया है। बंद का व्यापक असर दिखा। सुरक्षा को देखते हुए पुलिस प्रसाशन ने पुख्ता इंतजाम किए है। जगह-जगह पुलिस की फोर्स तैनात है। एसपी शहडोल ने खुद मोर्चा संभाला है।

# मुरैनाः सपाक्स के बंद को पूरा समर्थन , आज सुबह जिला में एक दो  चाय , नाश्ता की दुकानों को छोड़कर सभी दुकानें बंद हैं। बस संचालकों का भी समर्थन, सड़कों पर अभी नही निकले सपाक्स समर्थक, शहरी लोग भ्रमण कर जायजा ले रहे है, जिला की सभी तहसीलों, जिला मुख्यालय सहित बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन पर पुलिस बल तैनात, पेट्रोल पंप खुले हैं।

# झाबुआः आदिवासी बाहुल्य झाबुआ और अलीराजपुर जिले में बंद का व्यापक असर छोटे कस्बों के लेकर जिला मुख्यालय तक बंद व्यापारियों ने किया। स्वैछीक बंद सुबह से लोग तरस रहे हैं चाय नाश्ते के लिए कई जगह निजी स्कूलों में भी की छुट्टी। भारत बंद को लेकर दोनों ही जिलों में पुलिस प्रशासन मुस्तैद है।

# सिंगरौलीः धारा 144 लगने के बाद भी Sc/St एक्ट के विरोध में आज सिंगरौली बैढन, चितरंगी, देवसर सभी जगह दुकान प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद को जिले के 08 संगठनों का समर्थन। सुबह 6:00 बजे से ही समर्थन काले झंडे लेकर विरोध जता रहे हैं।

# विदिशाः जिले के सभी नगरों में शान्ति, भारी पुलिस बल तैनात है। निजी स्कूलों ने बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए छुट्टी घोषित कर दी है।

#MadhyaPradesh: Visuals of protest from Vidisha against SC/ST Act amendments. #BharatBandh pic.twitter.com/ZSsPhsWtX0

— ANI (@ANI) September 6, 2018

# सीहोरः सपाक्स द्वारा एट्रोसिटी एक्ट के विरोध में भारत बंद को लेकर  व्यापक असर नजर आ रहा है । सुबह के समय खुलने वाले चाय नाश्ते की दुकानें बंद, निजी स्कूलो की सुरक्षा की दृष्टि से छुट्टी घोषित की है। सब्जी दूध पर भी असर, पेट्रोल पम्प भी बंद। पुलिस और प्रशाशन बंद को लेकर सतर्क है।

# गुनाः भारत बंद को देखते हुए प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता बन्दोबस्त किये है। एसएएफ की कंपनी तैनात रहेगी, 500 के करीब सुरक्षाकर्मी भी सुरक्षा के लिये तैनात किये गये है। 
ज्यादातर निजी स्कूल बंद रहेंगे जिला शहर कस्बों में निजी स्कूल पेट्रोल पंप पैथोलॉजी एक्सरे मशीनें भी बंद करने का फैसला संचालक को द्वारा किया गया है ।

# सतनाः भारत बंद का असर सतना जिले के कोठी और बिरसिंहपुर में सुबह से ही देखने को मिला, कोठी के हर तिराहे चौराहे पर पुलिस का पहरा, ज्यादातर स्कूल और प्रतिष्ठान, बाजार बंद देखनो को मिला।

# भोपाल में जिला पुलिस, स्पेशल ब्रांच, एसटीएफ और सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। शहर के सभी संवेदनशील इलाकों में पुलिस की टुकड़ियां तैनात हैं तो वहीं सोशल मीडिया मैसेजेस पर भी नजर रखी जा रही है।

# भारत बंद को देखते हुए राजधानी भोपाल में सुरक्षा के लिए करीब दो हज़ार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। कंट्रोल रूम से पुलिस के गश्ती दलों को निर्देश देकर शहर के अलग-अलग हिस्सों में भेजा जा रहा है तो वहीं मोबाइल यूनिट भी तैनात की गई हैं।

इसे भी पढ़ेंः SC/ST Act के खिलाफ भारत बंद का बिहार में व्यापक असर, सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे हैं लोग

# भारत बंद को लेकर मध्य प्रदेश के खरगोन में भी व्यापक असर नजर आ रहा है। खरगोन में धारा 144 लागू कर दी गई है। सुबह खुलने वाले चाय नाश्ते की दुकानें बंद नजर आईं वही निजी स्कूल संचालको ने अपने स्तर से निर्णय लेकर सुरक्षा की दृष्टि से छुट्टी घोषित कर दी है।

और पढ़ेंः Live: SC/ST एक्ट के खिलाफ सवर्ण संगठनों ने बुलाया भारत बंद, NH-80 और NH-31 पर लगा लंबा जाम

पूरे भारत के संघठन के लोगो ने सुबह से बाइक रैली निकालते हुए खुले व्यापारिक प्रतिष्ठनो को बंद करने की अपील की है।

और पढ़ेंः क्या है एससी एसटी एक्ट (SC/ST Act), जानें क्यों हो रहा है विवाद?

भारत बंद को लेकर मध्यप्रदेश में अलर्ट घोषित कर दिया है इसके चलते खरगोन में भी प्रशासन कानून व्यवस्था सुचारू बनी रहे इसके लिए अतिरिक्त पुलिस बल लगाया गया है।

First Published: