कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने अमर्यादित भाषा का किया इस्तेमाल, पीएम मोदी को बताया अनपढ़-गंवार

| Last Updated:

मुंबई:

कांग्रेस पार्टी के नेता एक बार फिर अपने बयान को लेकर सुर्ख़ियों में छाये हुए है।  पार्टी के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर के बाद नेता संजय निरुपम ने प्रधानमंत्री के खिलाफ अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया है। कांग्रेस नेता ने पीएम मोदी के खिलाफ अनपढ़ -ग्वार जैसे अपशब्द का इस्तेमाल किया। निरुपम ने बच्चों को पीएम मोदी की फिल्म जबरन दिखने का विरोध भी किया। कांग्रेस नेता ने मर्यादा की भाषा लांघते हुए कहा, 'जो बच्चे स्कूल, कॉलेज में पढ़ रहे है वो मोदी जैसे अनपढ़ -ग्वार के बारे में जान कर उसको क्या मिलने वाला है?' आगे उन्होंने कहा, 'यह बहुत शर्मनाक बात है कि आज तक हमारे देश के नागरिक और बच्चों को पता नहीं है कि पीएम की डिग्री कितनी है?'

Jo bachhe school, college mein padh rahe hain woh Modi jaise unpadh-gawaar ke baare mein jaan kar unko kya milne wala hai? Yeh bahut sharmnaak baat hai ki aaj tak humare desh ke nagrik aur bacchhon ko pata hi nahi hai ki PM ki degree kitni hai? Sanjay Nirupam, Congress in Mumbai pic.twitter.com/ugUHHvukm8

— ANI (@ANI) September 12, 2018

प्रधानमंत्री मोदी के जीवन पर बनी फिल्म 'चलो जीते हैं'  को स्कूल में दिखने के फैसले को लेकर संजय निरुपम ने अपशब्दों का इस्तेमाल किया। करीब आधे घंटे की पीएम मोदी के जीवन पर बनी डॉक्यूमेंट्री महाराष्ट्र  के स्कूलों में दिखाई जाएगी। 

बता दें कि मणिशंकर पीएम मोदी को लेकर कई बार विवादित बयान दे चुके हैं। पिछले साल दिसंबर में गुजरात चुनाव के दौरान पीएम मोदी के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर कांग्रेस ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया था। अय्यर ने प्रधानमंत्री को एक 'नीच आदमी' कहा था। उन्होंने इस शब्द का प्रयोग मोदी का भाषण सुनने के बाद आक्रोश में आकर कहा। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी मणिशंकर द्वारा की गई अप्पतिजनक टिप्पणी की निंदा की थी। कांग्रेस अध्यक्ष के ट्वीट करने के बाद अय्यर ने माफी मांगी थी। पिछले महीने मणिशंकर अय्यर ने गुजरात के 2002 दंगों को लेकर पीएम मोदी पर सीधा निशाना साधा। अय्यर ने दिल्ली में एक कार्यक्रम में कहा कि उन्होंने 2014 से पहले नहीं सोचा था कि मुसलमानों को पिल्ला समझने वाला एक मुख्यमंत्री भारत का प्रधानमंत्री बन सकता है। इससे पहले भी मणिशंकर अय्यर अपने विवादित बयानों के कारण चर्चा में रह चुके हैं।

First Published: