बड़ा सवाल : नन मांगे इंसाफ, कब तक दबाई जाएगी महिलाओं की आवाज

| Last Updated:

नई दिल्ली:

केरल में एक नन के साथ कथित तौर पर हुए बलात्कार मामले में आरोपी कैथोलिक बिशप को लेकर देश भर से न्याय की मांग उठ रही है लेकिन चर्च के अंदर से ही इसके खिलाफ आवाजें उठती नहीं दिख रही है। ऐसा प्रतीत होता है कि आरोपी बिशप को धर्म का हवाला देकर बचाने की कोशिश की जा रही है। लेकिन क्या महिला के खिलाफ हुए अत्याचार को क्या धर्म की आड़ में बचाया जा सकता है? हिंदुस्तान से लेकर रोम तक के चर्च ने नन के खिलाफ हुई इस करतूत पर चुप्पी क्यों साध रखी है।

इसी मुद्दे पर आज आपके लोकप्रिय चैनल न्यूज नेशन पर शाम पांच बजे खास शो 'बड़ा सवाल' में बहस होगी। इस बहस में आप भी ट्विटर और फेसबुक के जरिए हिस्सा लेकर एंकर अजय कुमार और मेहमानों से अपने सवाल पूछ सकते हैं।

इसी मुद्दे पर आज के कार्यक्रम में अपनी राय देने के लिए विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के प्रवक्ता विनोद बंसल अपनी राय रखेंगे। वहीं राष्ट्रीय ईसाई महासंघ की अध्यक्ष डॉ अनिता बेंजामिन, इस्लामिक स्कॉलर मौलाना अतिक उर रहमान, वरिष्ठ वकील रेखा अग्रवाल बहस में जुड़ेंगी।

इसके अलावा हिंदू महासभा की राष्ट्रीय सचिव इंदिरा तिवारी, धर्मगुरु साजिद रशीदी, अखिल भारतीय संत परिषद के राष्ट्रीय संयोजक यति नरसिंहानंद सरस्वती, फादर सोलोमन जॉर्ज स्टूडियो में जुड़ेंगे।

महिला के साथ हुए अत्याचार के इस मुद्दे पर आप भी आज के शो में शामिल मेहमानों से अपने सवाल पूछ सकते हैं। @NewsStateHindi के ट्विटर हैंडल और फेसबुक पेज पर ट्वीट पूछिए अपने सवाल।

और पढ़ें : अहमदाबाद में भी बुराड़ी जैसा कांड, तंत्र-मंत्र के चक्कर में एक ही परिवार के तीन लोगों ने की आत्महत्या!

नन ने इसी साल जून महीने में आरोप लगाया था कि साल 2014 में कोट्टायम के पास कुरावलंगद क्षेत्र में एक गेस्ट हाउस में बिशप ने पहली बार उसका यौन शोषण किया था। इसके बाद वह 2014 से 2016 के बीच 13 बार उसके साथ यौन उत्पीड़न किया था। नन ने दावा किया था कि उसने गिरिजाघर के अधिकारियों को शिकायत की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। हालांकि आरोपी बिशप ने अपने ऊपर लगे इन आरोपों से इनकार किया था। मामला दर्ज किए 75 से ज्यादा दिन बीत चुके हैं।

First Published: