अमित शाह पर अखिलेश यादव का पलटवार, बीजेपी का VISION सिर्फ 'TELEVISION'

| Last Updated:

नई दिल्ली:

बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह के 50 साल तक देश पर शासन करने के दावे पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी पर करारा हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट के जरिए बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा, बीजेपी का विजन सिर्फ टेलीविजन है। इसलिए अब वो दावा कर रहे हैं और सपना देख रहे हैं कि अगले 50 सालों तक वो भारत पर राज करेंगे। वो अपनी ईवीएम मैनेजमैंट की तैयारी को लेकर पूरे आत्मविश्वास में हैं इसलिए चुनाव में गड़बड़ी होगी।

‘BJP’s vision, only television’.... so now they are claiming & dreaming to rule for the next 50 years... seems like they have full confidence in their EVM strategy, that is, Election Via Mischief. *#EVM #ElectionViaMischief*

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) September 10, 2018

अखिलेश यादव यहीं नहीं रुके और बीजेपी का अहंकारी बताते हुए एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए कहा, अहंकारी कह रहे हैं कि अगले 50 साल तक बीजेपी सरकार ही रहेगी। मीडिया, संवैधानिक संस्थानों और लोगों की भीड़तंत्रीय हत्याओं के बाद अब क्या ये जनता के सरकार चुनने के अधिकार की भी हत्या करेंगे, जो ऐसे तानाशाही बयान दे रहे हैं। देखियेगा जनता अगले 50 हफ़्तों से पहले ही इनको जवाब दे देगी।

अहंकारी कह रहे हैं कि अगले 50 साल तक भाजपा सरकार ही रहेगी. मीडिया, सांविधानिक संस्थानों व लोगों की भीड़तंत्रीय हत्याओं के बाद अब क्या ये जनता के सरकार चुनने के अधिकार की भी हत्या करेंगे, जो ऐसे तानाशाही बयान दे रहे हैं. देखियेगा जनता अगले 50 हफ़्तों से पहले ही इनको जवाब दे देगी.

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) September 10, 2018

और पढ़ें: भारत बंद में हिस्सा लेने पहुंचे अखिलेश यादव ने बोला बीजेपी पर हमला, चीन को फायदा पहुंचाने के लिये लागू की गई नोटबन्दी और जीएसटी

नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों पर बीजेपी को घेरते हुए यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, नोटबंदी, जीएसटी, दलित, किसान, नारी और युवा उत्पीड़न, महंगाई, बेरोज़गारी, पेट्रोल-डीज़ल के रोज़ बढ़ते दाम, अमीरों से मुनाफ़ाख़ोरी के सौदे बीजेपी के जन विरोधी कारनामे रहे हैं। अब तो जनता को ऐसा लगने लगा है कि बीजेपी जनता को दुख देने और परेशान करने की एक प्रयोगशाला खोल के बैठी है।

नोटबंदी, जीएसटी, दलित, किसान, नारी व युवा उत्पीड़न, महँगाई, बेरोज़गारी, पेट्रोल-डीज़ल के रोज़ बढ़ते दाम, अमीरों से मुनाफ़ाख़ोरी के सौदे भाजपा के जन विरोधी कारनामे रहे हैं. अब तो जनता को ऐसा लगने लगा है कि भाजपा जनता को दुख देने और परेशान करने की एक प्रयोगशाला खोल के बैठी है.

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) September 10, 2018

और पढ़ें: समाजवादी कार्यकर्ताओं ने निकाली पीएम नरेंद्र मोदी की शव यात्रा, फूंका पुतला

गौरतलब है कि अखिलेश यादव यूपी विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद से ही ईवीएम पर सवाल उठा रहे हैं और हैकिंग का आरोप लगा चुके हैं। अखिलेश यादव ने मांग की है साल 2019 में होने वाला विधानसभा चुनाव ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से करवाए जाएं। हालांकि ऐसी ही मांग कई दूसरे दलों ने भी की है लेकिन चुनाव आयोग साफ कर चुका है कि चुनाव बैलेट पेपर से कराना संभव नहीं है और ईवीएम के जरिए ही लोकसभा चुनाव करवाए जाएंगे।

First Published: