भोजपुरी में अटल पर बना गाना हुआ वायरल, एक दिन में 30 लाख लोगों ने देखा VIDEO

| Last Updated:

नई दिल्ली:

जीएसटी, नोटबंदी, सर्जिकल स्ट्राइक, बिहार में शराबबंदी जैसे हर बड़े सरकारी फैसले को भुनाने वाली भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री ने देश के दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन को भी कैश करना शुरू कर दिया है। अटल बिहारी वाजपेयी के निधन को अभी सिर्फ चार दिन बीते हैं लेकिन भोजपुरी में उनकी मौत पर गानों की बाढ़ आ चुकी है। भोजपुरी के सुपरस्टार और बीजेपी नेता पवन सिंह ने हालांकि अपने गाने के जरिए कहने के लिए तो भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है लेकिन उनका यह गाने सोशल मीडिया से लेकर यूट्यूब तक पर नए-नए रिकॉर्ड बना रहा है।

'बिन अटल हिन्दुस्तान तन जैसे बिना जान न सुबह होती न होती शाम: पवन सिंह

पवन सिंह के अटल बिहारी वाजपेयी पर गाने 'बिन अटल हिन्दुस्तान तन जैसे बिना जान न सुबह होती न होती शाम, कुछ दिन रखकर अपने धाम में लौटा देना ऐ मेरे राम' को रिलीज होने के बाद यूट्यूब पर अब तक करीब 29 लाख व्यूज मिल चुके हैं और इसमें लगातार तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। इस गाने को वेब म्यूजिक ने रिलीज किया है। जाहिर तौर पर इस गाने से देश में अटल बिहारी वाजपेयी के लिए लोगों के प्यार और सम्मान को कैश के तौर पर भुनाने की कोशिश की गई है।

स्वर्ग सिंहासन से टूटे ना शांति का संदेश पूरा देश नमन करता है ऐ मेरे लाल विशेष: रितेश पांडे

पवन सिंह अकेले ऐसे गायक नहीं है जो जिन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर गाना गाया है। भोजपुरी के दूसरे बड़े स्टार और 'पियवा से पहले हमार रहलू' गाने से फिल्म इंडस्ट्री में तहलका मचाने वाले गायक और अभिनेता रितेश पांडे ने भी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अपने गाने के जरिए श्रद्धांजलि दी है। रितेश पांडे ने 'स्वर्ग सिंहासन से टूटे ना शांति का संदेश पूरा देश नमन करता है ऐ मेरे लाल विशेष' गाने के जरिए वाजपेयी को जी को याद किया है। इस गाने को लवली म्यूजिक वर्ल्ड ने रिलीज किया और यूट्यूब पर अब तक करीब 2,456,900 से ज्यादा लोग इस गाने को देख या फिर सुन चुके हैं।

कवि कुल अटल बिहारी वाजपेयी गईले देश के छोड़वा, पूरा भारत शोक में बा डूबल, गिरता आंखवां से लोर': नीरज निराला

वाजपेयी के निधन को भुनाने की यह लिस्ट यहीं खत्म नहीं होती और इसमें तीसरा नाम भोजपुरी गायक नीरज निराला का है। निराला ने अपने गाने 'कवि कुल अटल बिहारी वाजपेयी गईले देश के छोड़वा, पूरा भारत शोक में बा डूबल, गिरता आंखवां से लोर' के जरिए भारत रत्न वाजपेयी को श्रद्धांजलि दी है। इस गाने को टीम फिल्म भोजपुरी ने रिलीज किया है और अब तक इस यूट्यूब पर 3 लाख 63 हजार से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी को गीत के जरिए श्रद्धांजलि देने वालों में चौथा नाम गायक रंजीत राय का है जिन्हेंने अपने गाने 'अटल बिहारी दुनिया छोड़ दिहले से' से उन्हें याद किया है। इस गाने को बिहारी फिल्म्स प्रोडक्शन हाउस ने रिलीज किया है और अब तक इस गाने को करीब 3 लाख 64 हजार लोग व्यूट्यूब पर देख चुके हैं।

इन गायकों के अलावा भोजपुरी फिल्म स्टार खेसारी लाल यादव समेत ऐसे कई और गीतगार और गायक है जो बीते चार दिनों में कई गाने बना चुके हैं जिन्हें लोगों से अच्छी खासी प्रतिक्रिया मिली है।

कैसे इन गानों से गायक और म्यूजिक कंपनी कमाती है करोड़ो रुपये

आप शायद सिर्फ अपनी मनपंसद गाने को सुनने के लिए यूट्यूब पर जाते होंगे लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी की आप जितनी बार यूट्यूब पर कोई गाना, वीडियो, कार्टून या फिर कुछ और देखते हैं उतनी बार आपके के जरिए उसे बनाने वाले और उस वीडियो का स्वामित्व रखने वाले लोगों को उससे आमदनी होती है। यूट्यब जो कि एक वीडियो प्लेटफॉर्म है वो हर वीडियो पर हर व्यूज के हिसाब से उस वीडियो कंटेंट का स्वामित्व रखने वाले शख्स या कंपनी को पैसा देती है। इसका सीधा मतलब यह है कि यूट्यूब पर जो गाना या फिर वीडियो जितना हिट उस गाने से उतनी मोटी कमाई होती है।

और पढ़ें: सलमान खान को 5 दिन बाद आई अटल बिहारी वाजपेयी की याद, यूजर्स ने कर दिया ट्रोल

जाहिर तौर पर यह कवि, राजनेता, देश के पूर्व प्रधानमंत्री, और भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को सिर्फ श्रद्धांजलि देने का मामला नहीं बल्कि उनके निधन पर देश में उनके लिए उमड़ने वाले प्यार, सम्मान, भावना और लोगों में जानकारी हासिल करने की ललक को संगीत के जरिए पूरा कर पैसे कमाने का है। इसलिए भोजपुरी में इन गानों का सीधा मतलब वाजपेयी जी को श्रद्धांजलि देना कम और पैसा कमाना ज्यादा है।

और पढ़ें: प्रार्थना सभा में बोले पीएम नरेंद्र मोदी, राजनीति में रहते हुए अटल जी ने अपनी विचारधारा से नहीं किया समझौता

गौरतलब है कि भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का लंबी बीमारी के बाद दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया था और उनकी मौत पर केंद्र सरकार देश में 7 दिनों का राष्ट्रीय शोक रखने का ऐलान किया था। वाजपेयी एक अच्छे राजनेता के साथ ही मंझे हुए कवि के रूप में भी बेहद लोकप्रिय थे।

First Published: