मेहुल चोकसी ने सभी आरोपों को बताया झूठा, कहा, ईडी ने अवैध तरीके से की संपत्ति जब्त

| Last Updated:

नई दिल्ली:

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के भगोड़े आरोपी मेहुल चोकसी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस पाने की कोशिश के बीच उसने एंटीगुआ में अपने गुप्त ठिकाने से जारी पहले संदेश में किसी भी तरह के गलत काम करने से इनकार किया है और इसके बजाय प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पर अवैध रूप से संपत्ति जब्त करने का आरोप लगाया है। एक वीडियो संदेश में, भगोड़ा व्यापारी ने यह भी कहा कि उसके पासपोर्ट को उसे कोई स्पष्टीकरण दिए बिना रद्द कर दिया गया।

उसने कहा, 'प्रवर्तन निदेशालय द्वारा लगाए गए सभी आरोप झूठे और आधारहीन हैं। उन्होंने बिना किसी आधार के अवैध रूप से मेरी संपत्ति जब्त की।' चोकसी ने कहा, 'पासपोर्ट अथॉरिटी ने मेरे पासपोर्ट को पूरी तरह से रद्द कर दिया, जिसके चलते मेरी आवाजाही पर रोक लग गई। मुझे पासपोर्ट कार्यालय से एक ईमेल प्राप्त हुआ, जिसमें कहा गया कि मेरा पासपोर्ट भारत को सुरक्षा खतरे के कारण रद्द कर दिया गया है।'

और पढ़ें: गैरजमानती वारंट को रद्द कराने के लिए कोर्ट पहुंचा मेहुल चोकसी

उसने आगे कहा, 'मैंने क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय मुंबई को एक ईमेल भेज कर पासपोर्ट पर लगी रोक खत्म करने का अनुरोध किया है। हालांकि, मुझे उनसे कोई जवाब नहीं मिला। उन्होंने मुझे यह भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया कि मेरा पासपोर्ट क्यों रद्द किया गया है।'

और पढ़ें: पीएनबी घोटाला मामले में इंटरपोल ने नीरव मोदी और भाई निशाल मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस किया जारी

चोकसी 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में एक मुख्य आरोपी है। आखिरकार उसके एंटीगुआ में होने का पता चला, जहां उसे नागरिकता मिल गई है।

First Published: