दिल्ली के बाद अब गोवा के आर्कबिशप ने कहा, 'खतरे में है संविधान'

| Last Updated:

नई दिल्ली:

दिल्ली में आर्कबिशप द्वारा एक पत्र जारी कर देश में नई सरकार के गठन के लिए ईसाई समुदाय से प्रार्थना के बाद अब गोवा और दमन के आर्कबिशप फादर फिलिप नेरी फेर्राओ ने भी पत्र जारी कर कहा है कि हम असुरक्षा के माहौल में जी रहे हैं।

अपने पत्र में गोवा के आर्कबिशप ने लिखा, 'देश के संविधान को सही से समझने की जरुरत है। मानवाधिकार का हनन हो रहा है। देश में सविधान खतरे में है।'

हालांकि इस बयान के सामने आने के बाद गोवा के आर्कबिशप के सेक्रटरी ने सफाई दी है। सेक्रटरी ने कहा, 'हम इस तरह का लेटर हर साल जारी करते हैं। लेकिन, इस साल 1-2 बयानों को परिप्रेक्ष्य से अलग देखते हुए मुद्दा बना दिया गया। यह पत्र हमारी वेबसाइट पर है और आप लोगों को पूरा मसला समझने के लिए इसे पढ़ना चाहिए।' 

We release pastor letters every year, this time some how 1-2 statements have been taken out of context & issue is created. Letter is on your website you must read it to understand context: Secretary of Goa Archbishop on Archbishop's letter stating, 'Our Constitution is in danger' pic.twitter.com/fAi81Nwj1x

— ANI (@ANI) June 5, 2018

इससे पहले दिल्ली के आर्क बिशप अनिल काउटो ने ईसाई समुदाय से वर्ष 2019 में नई सरकार के लिए दुआ करने का आह्वान किया गया था। उन्होंने लिखा था,'हमलोग अशांत राजनीतिक माहौल का गवाह बन रहे हैं। संविधान में उल्लिखित लोकतांत्रिक सिद्धांतों और देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को खतरा है।'

First Published: