World Chocolate Day 2018: चॉकलेट खाई तो बहुत होगी, अब जानिए बनाने का तरीका

| Last Updated:

नई दिल्ली:

चॉकलेट का नाम ही आपका मूड ठीक करने के लिए काफी होता है। मुंह में रखते ही पिघल जाने वाली इस चॉकलेट के बच्चों से लेकर बूढों तक सभी दीवाने होते है। कोई अपने शेक में चॉकलेट डालना पंसद करता है तो किसी को आईसक्रीम में चाहिए होता है। और किसी के तो बैग में चॉकलेट बार हमेशा ही मौजूद रहती है।

अगर आप भी चॉकलेट प्रेमी है तो आज वर्ल्‍ड चॉकलेट डे पर हम आपके लिए एक खास बात पता करके आए है। चॉकलेट को बनाने का तरीका। जी हां चॉकलेट को खाना जितना मीठा होता है बनाना उतना ही कड़वा। बहुत मेहनत और सब्र का काम होता है। आइये जानते है कैसे बनाई जाती है आपकी खास चॉकलेट:- 

  • चॉकलेट बनाने की प्रकिया बहुत जटिल होती है। इसके लिए मेहनत और सब्र दोनों की आवश्यकता होती है। आपके मुंह में पिघलने वाली यह चॉकलेट बीजारोपण, कटाई, किण्वन, सुखाने, बैगिंग, शिपिंग, भुनने, फटकने, पूर्व परिष्करण, पिसने, फेंटे जाने, मिलाने, मोल्डिंग, पैकिंग जैसी प्रकिया से गुजरता है। 
  • जब कोको के पेड़ के बीज लगाने के 7 साल बाद कोको फली का उत्पादन शुरू होता है, लेकिन 15-20 साल बाद इसे पुराना पेड़ माना जाता है। एक पाउंड चॉकलेट के लिए करीब 400 कोका बीन्स की जरूरत पड़ती है।
  • चॉकलेट का स्वाद में बहुत विविधता होती है। एक फाइन चॉकलेट में 600 फ्लेवर कंपाउंड होते है। यह फ्लेवर मिट्टी, जलवायु और जिस तरह से इनको भुना या फेंटा जाता है पर निर्भर करता है। इसी तरह से एक चॉकलेट बार दूसरे से स्वाद और दिखने में अलग नजर आती है।
  • अच्छी गुणवत्ता वाले चॉकलेट अविश्वसनीय रूप से जटिल और स्वभावपूर्ण है। यह अपने आप नहीं बनती है और इसे एक अच्छे स्नैप के साथ पूरी तरह से चमकदार बनाने के लिए चॉकलेटियर द्वारा गर्म, ठंडा और लगातार समायोजित करने की आवश्यकता होती है। हर चॉकलेट में खुद की एक खूबी होती है।
  • यदि आपको लगता है कि चॉकलेटियर होने का अच्छा काम था, तो शायद आपने कोको सोर्सर के बारे में नहीं सुना है। कोको सोर्सर्स चॉकलेट कंपनियों के लिए काम करते हैं और दुनिया भर में दिलचस्प जगहों से कोको बीन्स को अनूठा एक तरह का चॉकलेट बनाने के लिए दुनिया की यात्रा करते हैं।

इसे भी पढ़ें: स्वाद और सेहत के लिए बेहतरीन होता है इंदौरी पोहा

First Published: