मानसून में ये 5 फुटवियर रखेंगे आपको स्टाइलिश और ट्रेंडी

| Last Updated:

नई दिल्ली:

बारिश का मौसम भले ही आपको कितना भी अच्छा क्यों ना लगता हो, मगर आपके कपड़ों और फुटवियर का गीला हो जाना नहीं भाता। कारण भी है कि इससे आपको बीमार होने और गिरने आदि कर डर लगता है। कपड़ों को बचाने के लिए तो आप छाता का इस्तेमाल कर भी ले, लेकिन फुटवियर का क्या करेंगी। ऐसे में आज हम आपके लिए मानसून के दौरामन पहने जाने वाले फुटवियर के बारे में एक्सपर्ट की राय लेकर आए हैं। ताकि आप आराम से बारिश का मजा ले सके।

ऊंची एड़ी के कैनवस शूज: मानसून में ऊंची एड़ी के कैनवस शूज आपको स्टाइलिश लुक के अलावा आरामदायक भी रहेंगे। स्कर्ट या शार्ट्स पर आप ऊंची एड़ी के कैनवस शूज पहन पर खुद को ट्रेंडी और कैजुअल लुक दे सकते है। बाजार में इसके कई डिजाइन उपलब्ध है। ऐसे में आपको मैचिंग की भी टेंशन नहीं होगी। तो अगली बार दोस्तों के साथ पार्टी में जाने से पहले आपको अपने मंहगे शूज खराब होनी चिंता भी नहीं रहेगी। क्योंकि ये गीले होने पर जल्दी सूख भी जाते है।

क्रॉक्स: बारिश के मौसम में क्रॉक्स से बेहतर कोई फुटवियर नहीं हो सकता है। इवनिंग वाॉक के लिए जाना हो या, दोस्तों के साथ हैंगआउट के लिए आप आराम से कॉक्स पहन सकते है। डेनिम से लेकर फ्लोरल ड्रेसज तक सभी पर क्रॉक्स सूट करता है। मानसून में ब्राइट कलर के कॉक्स बेहद खूबसूरत लगते है।

रबर फुटवियर: ये बाजार में आसानी और सस्ते मिलने वाले फुटवियर है। आज के दौर में रबर के फुटवियर के साथ कलर्स और स्टाइल को लेकर बहुत सारे प्रयोग भी हो रहे है। ऐसे में आपको ऑफिस से लेकर बाजार जाने तक के लिए रबर के फुटवियर सहूलियत देंगे। रबर के फुटवियर खासतौर पर बीच एरिया में पहने जाते है ताकि दलदल आदि में फंसने से भी बचाते है। जो डेली यूज में इनका प्रयोग आपके लिए अच्छा रहेगा।

फ्लिप फ्लॉप: फ्लिप फ्लॉप पहने की शुरूआत तो गर्मी के मौसम से ही हो जाती है। ये गीली फर्श पर आपको फिसलने से बचाने में मदद करते है हालांकि इस बात पूरा ध्यान रखना चाहिए कि यह फुटवियर आपके पैरो को ठीक तरह से सपोर्ट देता हो।

wedges सैंडिल: अगर आपको लगता है कि हील में आपका लुक ज्यादा अच्छा आता है, तो आप wedges सैंडिल ट्राई कर सकती है। बारिश के मौसम में यह स्टाइलिश और आरामदायक दोनों होते है। मानसून के दौरान आप सॉलिड कलर या फिर टाइगर प्रिंट वाले wedges सैंडिल ट्राई कर सकती है।

 

First Published: