अंग्रेजी के इस टीचर ने खड़ा कर दिया अरबों का कारोबार, अपने 54वें जन्‍मदिन पर हो हुआ रिटायर

| Last Updated:

नई दिल्‍ली:

जैक मा, जी हां यही नाम उस अंग्रेजी के टीचर का, जिसने दुनिया में सबसे बड़ी ई-कामर्स और ऑनलाइन पेमेंट कंपनी अलीबाबा खड़ी कर दी। इस कंपनी की स्‍थापना उन्‍होंने 1999 में की थी, जब चीन का बाजार पूरी तरह से बंद था, और उन्‍हें खुद कंप्‍यूटर का ज्‍यादा ज्ञान नहीं था। लेकिन अंग्रेजी की जानकारी के चलते वह दुनिया में जान गए थे कि क्‍या बदलाव आने वाले हैं। आज चीन में टीचर्स डे है और जैक मा का 54वां जन्‍मदिन, जिसकों उन्‍होंने अपने रिटायरमेंट के लिए चुना है। उनकी इच्‍छा अब फिर से पढ़ाई के क्षेत्र में जाने की है।

420 बिलियन डॉलर का कारोबार

अलीबाबा का कारोबार इस वक्‍त करीब 420 बिलियन डॉलर का है। रुपए के हिसाब से यह 30 लाख करोड़ रुपए होता है। कारोबार का यह स्‍तर पाने में उनको मात्र 19 साल लगे। वहीं इस दौरान उनकी नेटवर्थ 40 बिलियन डॉलर (2.8 लाख करोड़ रुपए) हो गई।

कर्मचारियों को दी जानकारी

जैक मा ने कंपनी के शेयरधारकों और कर्मचारियों को लिखे पत्र में कहा, "अगले 12 महीनों तक कंपनी का कार्यकारी अध्यक्ष बने रहने के दौरान मैं डेनियल झांग के साथ मिलकर काम करूंगा ताकि वह सुचारू ढंग से बागड़ोर पूरी तरह से संभाल सकें।"

पढ़ाने की जताई इच्‍छा

उन्‍होंने कहा कि आज मैं 54 वर्ष का हो गया हूं और अब में शिक्षण की ओर लौटना चाहता हूं। वह कहते हैं, "मैं अब शिक्षण की ओर लौटना चाहता हूं, जो मुझे बेहद पसंद है। यह दुनिया बहुत बड़ी है और मैं अभी भी युवा हूं इसलिए मैं अब नई चीजें करना चाहता हूं।"

और पढ़े : 2 लाख रुपए सस्‍ती पड़ेगी कार, लोन भी नहीं लेना होगा

डेनियल झांग होंगे उत्‍तराधिकारी

डेनियल झांग चीन की ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के मुख्य कार्यकारी (CEO) होंगे। वह आज (10 सितंबर) इसके सहसंस्थापक जैक मा के स्थान पर बागडोर संभालेंगे। अलीबाबा की ओर से सोमवार को जारी बयान के मुताबिक, "जैक मा अगले 12 महीनों तक कंपनी के कार्यकारी अध्यक्ष बने रहेंगे।" 

First Published: