गुजरात: राजपूतों की तरह दिखने और मोज्दी पहनने पर दलित लड़के की हुई बेरहमी से पिटाई

| Last Updated:

नई दिल्ली:

सोशल मीडिया पर गुजरात के एक दलित युवक की पिटाई का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कथित रूप से कुछ राजपूत लड़के 13 वर्षीय दलित लड़के की पिटाई करते नजर आ रहे हैं।

पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज कर आरोपी चारों लड़कों को एससी/एसएसटी एक्ट समेत अगवा करने और जातीय हिंसा की धाराओं के तहत में गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस ने बताया कि यह घटना 12 जून को अहमदाबाद के विट्ठलापुर गांव की है जहां पीड़ित लड़का बस पर 'मोज्दी ( पारंपरिक चमड़े का जूता)' और गले में चेन पहनकर बैठा हुआ बस का इंतजार कर रहा था।

पीड़ित युवक के अनुसार लड़कों ने उसके पास पहुंचकर उसकी जाति के बारे में पूछा। जब उसने खुद को दलित बताया तो उन्होने यह कहकर उसके मारपीट कि एक दलित होने के बावजूद उसने मोज्दी क्यों पहना।

आरोपी लड़कों ने उसे बाइक पर बिठाया और सूनसान इलाके में ले जाकर बेरहमी से पीटा।

और पढ़ें: ईद के बाद जम्मू-कश्मीर से हटाया जा सकता है सीजफायर, आतंकियों की फिर आएगी शामत : सूत्र

वीडियो में आरोपी लड़कों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि वो उसे एक राजपूत की तरह पहनावा रखने के कारण उसकी पिटाई कर रहे हैं और इस वीडियो को इसलिए वायरल करेंगे ताकि दलित समाज इस बात से सबक लेकर आगे से ऐसा करने की हिम्मत न कर सके।

गौरतलब है कि गुजरात में कुछ दिन पहले ही एक दलित पुलिस कांस्‍टेबल ने शादी के कार्ड में नाम के पीछे 'सिंह' लगाया तो सवर्णों ने काफी हंगामा किया था। वहीं इसी साल मई में 20 दलितों ने राजकोट में उनकी ज़मीन हथियाने के विरोध में आत्‍मदाह की कोशिश की थी।

बता दें कि आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार 2017 में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति एक्ट के तहत 1515 केस दर्ज हुए हैं। यह संख्या पिछले 17 सालों में सबसे ज्यादा है।

आंकड़ों के अनुसार 2017 में दलितों पर हो रहे अत्याचारों के मामले में अहमदाबाद सबसे आगे रहा है जहां 121 केस दर्ज हुए हैं।

और पढ़ें: भारत ने मालदीव के पूर्व राष्‍ट्रपति-चीफ जस्टिस को सज़ा देने पर जताई निराशा

First Published: