बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर तेजस्वी यादव का नीतीश कुमार पर हमला, कहा- मुख्यमंत्री में लोकशर्म ही नहीं बची

| Last Updated:

पटना:

बिहार में बढ़ रही अपराध और मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर राज्य के पूर्व उप-मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता तेजस्वी यादव ने रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना की। तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि क्या बिहार को ये डरावने दिन दिखाने के लिए ही नीतीश कुमार जी दिन-दहाड़े बीजेपी (भारतीय जनता पार्टी) के साथ भागे थे। उन्होंने कहा कि जिस मुख्यमंत्री में लोकशर्म ही नहीं बची हो उसे क्या-कुछ कहें?

रविवार को एक के बाद एक ट्वीट कर तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोला। तेजस्वी ने कहा, 'बिहार में चहुंओर अराजकता का माहौल है। अपहरण, बलात्कार, हत्या, लूट, मॉब लिंचिंग से हाहाकार मचा हुआ है। कानून व्यवस्था समाप्त हो चुकी है। प्रखंड से लेकर मुख्यमंत्री सचिवालय तक भ्रष्टाचार का बोलबाला है। सरकारी कार्यालयों में विशेष RCP टैक्स चुकाये बिना आप पैर भी नहीं रख सकते।'

उन्होंने हालिया मॉब लिंचिंग की घटना पर लिखा, 'मॉब लिंचिंग का हब बना बिहार- बेगूसराय में भीड़ ने पीटकर 3 व्यक्तियों की हत्या की। रोहतास में दलित महिला की पीटकर हत्या। हाजीपुर में दरोगा तो जहानाबाद में एएसपी पर हमला। सासाराम में महिला को निर्वस्त्र घुमाया। जिस मुख्यमंत्री में लोकशर्म ही नहीं बची हो उसे क्या-कुछ कहें?'

तेजस्वी ने कहा, 'हमें ही शर्म आने लगी है आखिर मुख्यमंत्री नीतीश जी बीजेपी की डबल इंजन वाली बुलेट ट्रेन में बैठकर भी इतने सुस्त, लाचार, बेबस और असहाय क्यों है? 11 करोड़ बिहारवासियों के जनविश्वास का कत्ल कर बीजेपी को सत्ता सौंपने वाला व्यक्ति आखिर इतना लाचार कैसे हो सकता है?'

और पढ़ें : UP में नहीं थम रहा मॉब लिंचिंग का कहर, अब मुजफ्फरनगर में 20 साल के युवक की पीट पीटकर हत्या

इसके अलावा उन्होंने नीतीश कुमार को महागठबंधन से बाहर निकलने पर भी निशाना साधा और कहा कि जो बीजेपी के साथ गुप्त डील हुई थी उसे सार्वजनिक करें।

उन्होंने लिखा, 'क्या बिहार को ये डरावने दिन दिखाने के लिए ही नीतीश कुमार जी दिन-दहाड़े बीजेपी के साथ भागे थे। अगर मैं गलत था और उन्हें अपने चेहरे पर इतना गुमान था तो विधानसभा भंग कर चुनाव में जाते। मुख्यमंत्री जी, जनादेश अपमान के एवज में बीजेपी के साथ हुई अपनी गुप्त डील को सार्वजनिक करें।'

और पढ़ें : मॉब लिंचिंग : बिहार के रोहतास में महिला की पीट पीटकर हत्या

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही बिहार के बेगूसराय में भीड़ ने तीन व्यक्तियों की पीटपीटकर हत्या कर दी थी। वहीं रोहतास में एक महिला को भी मामूली विवाद में भीड़ का शिकार होना पड़ा।

आंकड़ों के मुताबिक, बिहार में महिलाओं के साथ बलात्कार, छेडछाड़, अपहरण, दहेज के लिए हत्या और प्रताड़ना के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है। पिछले वर्ष हर दिन जहां बलात्कार की तीन से ज्यादा घटनाएं हुईं, वहीं अपहरण के 18 से ज्यादा मामले हर रोज दर्ज किए गए। इस वर्ष की पहली छमाही के आंकड़े भी कुछ ऐसे ही हैं।

First Published: