Breaking
  • हरियाणा में रिलीज नहीं होगी फिल्म 'पद्मावत', खट्टर सरकार का फैसला
  • राजस्थान: PM मोदी ने रखी रिफाइनरी की नींव, कहा- अकाल और कांग्रेस जुड़वां भाई, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • अमेठी पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, लोगों से की मुलाकात
  • मीडिया के सामने भावुक हुए वीएचपी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया, कहा- मेरे एनकाउंटर की साजिश रची गई
  • अटार्नी जनरल ने कहा ऐसा लगता है कि SC के जजों के बीच अभी सुलझा नहीं है विवाद, समय लग सकता है
  • 26/11 हमले में जिंदा बचे बेबी मोशे मुंबई पहुंचे
  • अहम सुनवाई के लिए बनी नई संवैधानिक पीठ में चारों जजों को नहीं मिली जगह, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • अंडर-19 विश्व कप: भारत ने पापुआ न्यू गिनी को 10 विकेट से हराया
  • अमेठी:राहुल गांधी को राम और पीएम मोदी को रावण दिखाने वाले कांग्रेस नेता पर FIR दर्ज
  • पंजाब: बिजली और सिंचाई मंत्री राना गुरजीत सिंह ने अपना इस्तीफा दिया
  • श्रीलंका नेवी ने 16 भारतीय मछुआरों को हिरासत में लिया, 4 नाव जब्त
  • इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू आज जाएंगे आगरा, देखेंगे ताजमहल
  • मुंबई: कमला मिल्स आग मामले में पुलिस ने फरार आरोपी युग तुली को गिरफ्तार किया

भारत जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में प्रमुख भागीदार

  |  Updated On : January 14, 2018 05:31 AM
जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में भारत की भूमिका अहम (प्रतीकात्मक फोटो)

जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में भारत की भूमिका अहम (प्रतीकात्मक फोटो)

संयुक्त राष्ट्र:  

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस का कहना है कि जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में जहां अन्य देश नाकाम रहे हैं, वहीं भारत इसमें प्रमुख भूमिका निभा रहा है। 

गुटेरेस ने शुक्रवार को कहा, 'जलवायु परिवर्तन के प्रति हमारी एक बहुत ही दृढ़ प्रतिबद्धता है।'

उन्होंने कहा, 'जलवायु परिवर्तन हमें पराजित नहीं कर सकता, लेकिन हम इस लड़ाई में जीत भी नहीं पा रहे। जलवायु परिवर्तन से सर्वाधिक नुकसान उन विकासशील देशों को उठाना पड़ रहा है, जो जी77 देशों के समूह के सदस्य हैं।'

उन्होंने कहा कि भारत और चीन जलवायु परिवर्तन की समस्या से निपटने में प्रमुख भूमिका निभा रहे हैं, ताकि हमें जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी प्रभाव न झेलने पड़ें।

गूगल ने बांग्ला लेखिका Mahasweta Devi’s 92nd Birthday शीर्षक से बनाया डूडल, उपन्यास पर बनी थी चर्चित फिल्में

गुटेरेस एक समारोह में बोल रहे थे, जहां मिस्र ने इक्वोडोर से जी77 का नेतृत्व ग्रहण किया।

गुटेरेस ने कहा कि जी77 बहुपक्षवाद की रक्षा का आधारभूत स्तंभ है और बहुपक्षवाद के लिए यह मुश्किल दौर चल रहा है।

उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र में सत्ता का संतुलन सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा परिषद में सुधार जरूरी है।

उन्होंने कहा, 'हम संयुक्त राष्ट्र को अधिक लोकतांत्रिक बनाने को लेकर चिंतित हैं, जिसमें सत्ता अधिक संतुलित तरीके से विभाजित हो और इसके लिए निश्चित तौर पर सुरक्षा परिषद में सुधार आवश्यक है।'

पाकिस्तान ने भारत को दी परमाणु हमले की धमकी, कहा- दूर हो जाएगी बिपिन रावत की गलतफहमी

जी77 की अध्यक्षता ग्रहण करते हुए मिस्र के स्थायी प्रतिनिधि अम्र अब्देल्लतीफ अबौलत्ता ने कहा कि संगठन जलवायु परिवर्तन से इस प्रकार निपटने में एकजुट होकर काम करेगा, जिससे विकास को भी बढ़ावा मिले।

उन्होंने कहा कि विकास और गरीबी निवारण संगठन की प्राथमिकता रहेगी। गरीबी दुनिया की अधिकांश समस्याओं का प्रमुख कारण है।

इसके लिए विकासशील देशों में रोजगार और उत्पादन क्षमता बढ़ाना जरूरी है।

महासभा के अध्यक्ष मिरोस्लाव लाजैक ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र को पेश आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए जी77 की भागीदारी बेहद जरूरी है।

युवाओं के लिए भारत ने संयुक्त राष्ट्र को दिया 50 हजार डॉलर

RELATED TAG: Paris Climate Agreement, United Nations, India China, Donald Trump, Antonio Guterres,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो