Breaking
  • IPL 2018 FINAL: सनराइजर्स हैदराबाद ने चेन्नई सुपर किंग्स को दिया 179 का लक्ष्य
  • चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी ने जीता टॉस, पहले फील्डिंग का फैसला किया
  • मुंबई: गोरेगांव (पश्चिम) एसवी रोड पर टेक्निक प्लस वन की बिल्डिंग में आग लगी
  • केरल: निपाह वायरस के कारण एक अन्य की मौत, मरने वालों की संख्या 14 हुई
  • ओमान चांडी को आंध्र प्रदेश का कांग्रेस प्रभारी नियुक्त किया गया, दिग्विजय सिंह की जगह लेंगे
  • पीएम मोदी 44वीं बार करेंगे मन की बात, छात्रों को दिखाएंगे रास्ता पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • पीएम मोदी दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर करेंगे रोड शो, सोलर पावर से लैस हाईवे का करेंगे उद्घाटन -Read More »

म्यांमार ने मानवाधिकार उल्लंघन के आरोपों को खारिज किया

  |   Updated On : March 14, 2018 11:33 PM
फाइल फोटो

फाइल फोटो

यांगून:  

संयुक्त राष्ट्र द्वारा म्यांमार के रखाइन प्रांत में 'नस्लीय संहार और सफाए' की रपट देने के बाद म्यामांर ने मानवाधिकार उल्लंघन के इन आरोपों को खारिज कर दिया।

सरकार के मुखपत्र 'ग्लोबल न्यू लाइट ऑफ म्यांमार' ने अपने संपादकीय में लिखा, 'म्यांमार विदेश प्रायोजित और आर्थिक सहायता प्राप्त आतंकवाद का सामना करने के बावजूद रखाइन प्रांत में स्थिरता लाने और उसे विकास के मार्ग पर लाने का प्रयास कर रहा है।'

समाचार पत्र ने कहा कि 'यह अगस्त 2017 में अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) के आतंकवादियों का हमला था, जिसके बाद रखाइन में सैन्य अभियान चलाया गया जिससे लोगों, विशेषकर रोहिंग्या मुस्लिमों को पलायन कर बांग्लादेश जाना पड़ा।'

ये भी पढ़ें: मुरझाया कमल, यूपी-बिहार में तीनों लोकसभा सीटों पर BJP का सूपड़ा साफ

समाचार पत्र के अनुसार म्यांमार अधिकारियों द्वारा रखाइन प्रांत में लोगों से इंटरव्यू करने पर पता चला कि 'कई लोगों ने रोजगार की कमी, भोजन और एआरएसए की धमकियों के कारण पलायन किया।'

एफे न्यूज के अनुसार सोमवार को म्यांमार में मानवाधिकार मामलों को देखने वाले संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि यांघी ली ने जेनेवा में कहा कि रोहिंग्याओं के खिलाफ हुए अपराधों के लिए सेना के साथ-साथ म्यांमार की आंग सान सू की की सरकार जिम्मेदार है।

म्यांमार सेना पर अगस्त 2017 में सैन्य अभियान के दौरान रोहिंग्याओं के गांवों को जलाने, हत्या करने और उनकी महिलाओं, लड़कियों के साथ दुष्कर्म करने के आरोप हैं।

हालांकि, संयुक्त राष्ट्र में म्यांमार के स्थाई प्रतिनिधि यू ह्टिन लिन ने मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों को नकार दिया है और क्षेत्र में पुनर्वास और लोकतंत्र स्थापित करने में मदद के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया है।

दैनिक समाचार पत्र ने लिन के हवाले से कहा कि रखाइन प्रांत में जो हुआ है, इतिहास उसका निर्णय करेगा।

लिन ने कहा कि म्यांमार का नेतृत्व और सरकार अपराध को सहन नहीं करेंगे। सबूत मिलने पर म्यांमार कार्रवाई करने को तैयार है।

नवंबर 2017 में म्यांमार और बांग्लादेश ने एक समझौता किया था जिसके तहत रखाइन से बांग्लादेश पलायन करने वालों को म्यांमार वापस लेगा।

ये भी पढ़ें: आदित्य ने घायलों के इलाज का उठाया खर्चा, हादसे के बाद मांगी माफ़ी

RELATED TAG: Myanmar,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो