एक दशक बाद वैश्विक भूख में बढ़ोत्तरी, भारत में 23% आबादी प्रभावित: UN

  |  Updated On : September 16, 2017 09:55 AM

ख़ास बातें
  •  एक दशक के बाद वैश्विक भूख में बढ़ोत्तरी, 2016 में 81.5 करोड़ लोग प्रभावित 
  •  भारत में 5 साल के नीचे के 38.4 फीसदी बच्चे अविकसित औऱ 51.4 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकार

नई दिल्ली:  

एक दशक से अधिक समय तक निरंतर गिरावट के बाद वैश्विक भूख एक बार फिर से बढ़ रही है, जिस कारण वर्ष 2016 में 81.5 करोड़ (वैश्विक आबादी का 11 प्रतिशत) लोग प्रभावित हुए। 2015 में यह संख्या 777 करोड़ थी। हालांकि साल 2000 में 900 करोड़ की तुलना में यह काफी नीचे है।

रोम स्थित संयुक्त राष्ट्र खाद्य एजेंसियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

विश्व खाद्य सुरक्षा और पोषण पर संयुक्त राष्ट्र की वार्षिक रिपोर्ट के एक नए संस्करण में खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय निधि (आईएफएडी) और विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) समेत अन्य संगठनों ने यह चेतावनी दी है।

एजेंसियों ने कहा, 'कुपोषण के कई रूप दुनियाभर में लाखों लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरा बने हुए हैं।'

विश्व में खाद्य सुरक्षा और पोषण की स्थिति 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 3.8 करोड़ की बढ़ोतरी हुई है। इसका सबसे बड़ा कारण हिंसक संघर्ष और जलवायु संबंधी झटके हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच वर्ष से कम उम्र के 15.5 करोड़ बच्चे अविकसित हैं, जबकि 5.2 बच्चे लगातार कमजोर हो रहे हैं, मतलब उनका वजन उनकी लंबाई के हिसाब से बहुत कम है।

इसे भी पढ़ें: दुनिया का सबसे छोटा 'पोर्टेबल वेंटीलेटर' हुआ लॉन्च, जानें इसकी खूबियां और कीमत

रिपोर्ट में कहा गया है कि अनुमान के अनुसार, 4.10 करोड़ बच्चे अब अधिक वजन वाले हैं और महिलाओं में एनीमिया एवं वयस्कों में मोटापा भी चिंता का कारण है।

रिपोर्ट में आगे कहा गया है, 'ये प्रवृत्तियां न केवल संघर्ष और जलवायु परिवर्तन, बल्कि आहार की आदतों में भी भारी बदलाव के साथ-साथ आर्थिक मंदी का भी परिणाम है।'

इसे भी पढ़ें: भारत में मानसिक रोगों पर अभी भी खास ध्यान नहीं: IMA

भारत की स्थिति

आंकड़े बताते हैं कि भारत में ऐसे लोगों की कुल आबादी 19.07 करोड़ है जो कुल आबादी के मुकाबले 14.5 फीसदी है। 

डेटा के अनुसार भारत में 5 साल के नीचे के 38.4 फीसदी बच्चे अविकसित हैं। जबकि प्रजनन उम्र की 51.4 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकायत से जूझ रहीं है। इस रिपोर्ट के अनुसार पोषण संबंधी अभाव मानसिक विकास, स्कूल प्रदर्शन और बौद्धिक क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

चीन और श्रीलंका की तुलना में भारत में बच्चों की अविकसित दर ज्यादा है। श्रीलंका में 14.7 फीसदी और चीन में 9.4 फीसदी बच्चे अविकसित हैं।

आंकड़े बताते हैं कि कुपोषण के कारण पैदा होने वाले छोटे कद के बच्चों की संख्या 2005 के 6.2 करोड़ के मुकाबले घटकर 2015 में 4.75 करोड़ हो गई। वहीं वजनी व्यस्कों की संख्या 2014 के 1.46 करोड़ से बढ़कर 2.98 करोड़ हो गई।

IANS के इनपुट के साथ 

इसे भी पढ़ें: कैंसर पीड़ित नाबालिग को खून चढ़ाने से हुआ HIV+, जांच के आदेश

RELATED TAG: World Hunger,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो