Breaking
  • IPL 2018 CSK vs RCB: चेन्नई ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का फैसला
  • महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में दो और नक्सलियों के शव बरामद हुए, मरने वालों की संख्या 39 हुई
  • UP जल निगम भर्ती घोटाले में एसआईटी ने आजम खां के खिलाफ दर्ज किया FIR
  • गौतम गंभीर ने दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी छोड़ी, श्रेयस अय्यर नए कप्तान
  • जोधपुर कोर्ट ने आसाराम को नाबालिग से रेप के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई

भारतीय मूल के पहले अमेरिकी नागरिक को मिलेगी सज़ा-ए-मौत

  |   Updated On : January 11, 2018 09:50 PM
भारतीय मूल के पहले अमेरिकी नागरिक को मिलेगी सज़ा-ए-मौत (सांकेतिक फोटो)

भारतीय मूल के पहले अमेरिकी नागरिक को मिलेगी सज़ा-ए-मौत (सांकेतिक फोटो)

वॉशिंग्टन:  

भारतीय मूल के पहले अमेरिकी कैदी की फांसी की सज़ा की तारीख अगले महीने तय की गई है।

इस कैदी पर अपहरण और फिरौती के लिए 61 वर्षीया वृद्धा और उसकी 10 महीने की पोती की हत्या का आरोप था। इस मामले में कोर्ट ने उसे दोषी ठहराने के बाद फांसी की सज़ा सुनाई थी।

रघुनंदन यंदामुरी (32 वर्षीय) को साल 2014 में मौत की सज़ा सुनाई थी। यंदामुरी की फांसी की तारीख स्थानीय प्राधिकरण ने 23 फरवरी तय की है, हालांकि ऐसी संभावना है कि उसकी सजा टल जाए। 

सोमवार से भारत दौरे पर नेतन्याहू, 'दोस्त' मोदी करेंगे स्वागत

ऐसा इसलिए की साल 2015 में पेनिसिल्वा के गवर्नर टॉम वुल्फ ने मौत की सजा पर रोक प्रस्ताव लाया था। यंदामुरी, सज़ा-ए-मौत पाने वाले पहले भारतीय-अमेरीकन नागरिक है। रघुनंदन आंध्र प्रदेश के रहने वाले हैं और वो एच1बी वीजा के जरिए अमेरिका आए थे।

यंदामुरी के पास इलेक्ट्रिकल और कंम्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में एडवांस डिग्री है। पेनिसिल्वा में पिछले 20 सालों में किसी को सज़ा-ए-मौत नहीं सुनाई गई है। 1976 के बाद से तीन लोगों को सज़ा-ए-मौत सुनाई जा चुकी है।

यह भी पढ़ें: इंदिरा गांधी बनेंगी विद्या बालन, किताब के अधिकार हासिल किए

कारोबार से जुड़ी ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

RELATED TAG: Indian-american, Execution, Hang Till Death,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो