Breaking
  • आरजेडी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद सीएम नीतीश के आवास पर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था
  • NDA में शामिल हुई जेडी-यू, 'बागी' शरद यादव के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई -Read More »
  • शुक्रवार की क्लोजिंग के मुकाबले 25 फीसदी प्रीमियम पर बायबैक करेगी इंफोसिस
  • यूपी में ख़राब कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल से की मुलाक़ात
  • इंफोसिस के बोर्ड ने 13,000 करोड़ रुपये के बायबैक को दी मंजूरी -Read More »
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां ज़िले के 9 गांवो में सुरक्षाकर्मियों ने शुरु किया सर्च ऑपरेशन

'चीन को भारत की तरक्की पर चुप रहने की नसीहत'

By   |  Updated On : July 17, 2017 12:11 AM
मोदी और जिनपिंग (फाइल फोटो)

मोदी और जिनपिंग (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:  

चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने चीन को भारत की तरक्की पर चुप रहने की सलाह दी है।

चीनी अख़बार ने लिखा है कि हाल में भारत ने ढ़ेर सारे विदेशी निवेशकों को आकर्षित किया है। ज़ाहिर है लगातार निवेशकों के आने की वजह से भारत में मैन्युफेक्चर सेक्टर में विकास होगा। ऐसे में चीन को चाहिए कि वो बिना कुछ बोले अपने काम पर तवज्जो दे और भविष्य को ध्यान में रखते हुए विकास के एजेंडे पर काम करे।

अख़बार के मुताबिक भारत में लगातार निवेश आ रहा है जिससे आने वाले समय में भारत मैन्युफैक्चर सेक्टर में काफी तेज़ी से विकास करेगा और भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। ज़ाहिर है ऐसे में रोज़गार और उद्योग के क्षेत्र में भी भारत काफी तेज़ी से बढ़ोतरी करेगा।

अख़बार ने लिखा है, 'चीन भारत की तरक्की पर बिना कुछ बोले अपने काम को लेकर नए युग के हिसाब से बेहतर काम करने पर विचार करे। जिससे वो भारत को आर्थिक विकास में चुनौती दे सके।'

चीनी अख़बार में कहा गया है कि धड़ाधड़ विदेशी मैन्युफैक्चरर का भारत में आना इनकी कुछ कमज़ोरियों को भी दर्शाता है। वहीं दूसरी तरफ ये भी बताता है कि भारत की मैन्युफेक्चर सेक्टर पहले की तुलना में ज़्यादा तज़ी से बढ़ रहा है। जिसमें चीन का भी बहुत बड़ा हाथ है।

नवाज शरीफ की बढ़ेगी मुश्किल, JIT ने पाक पीएम के खिलाफ ने 15 मामलों को दोबारा खोलने की सिफारिश की

अख़बार ने लिखा है, 'भारत चीन की तरह ही विदेशी निवेश पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। विदेशी निवेश आने की वजह से ही चीन आज आर्थिक रूप से ज़्यादा मजबूत हुआ है ऐसे में तय है कि भारत भी आने वाले समय में बड़ी शक्ति बनकर उभरने वाला है।'

अख़बार में ये भी लिखा गया है, 'भारत शुरुआत में पूंजीवाद, विकसित मैन्युफेक्चरिंग सेक्टर और प्रशिक्षित मैन्युफेक्चरिंग कर्मचारी के मामले में चीन से पिछड़ा हुआ था। लेकिन विदेशी निवेश आने और 'मेक इन इंडिया' से भारत अपनी कमियों पर बेहतर तरीके से ध्यान दे पाएगा।'

अख़बार ने एक लिस्ट जारी की है जिसमें चीनी कंपनी समेत उन तमाम कंपनियों की लिस्ट है जो भारत में निवेश कर रहा है। साथ ही इस बात का भी ज़िक्र किया गया है कि भारत में जो हो रहा है वो चीन में आज से दो दशक पहले हो चुका है। इससे साफ़ ज़ाहिर होता है कि भारत आर्थिक रुप से आने वाले समय में बड़ी शक्ति के रुप में उभरने वाला है।

ट्रंप रिश्तेदारों को यात्रा प्रतिबंध से बाहर रखे जाने के फैसले के खिलाफ जाएंगे सर्वोच्च न्यायालय

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो