Breaking
  • तमिलनाडु में 27 मई सुबह 8 बजे तक धारा 144 लागू
  • अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप नें किम जोंग उन को लिखी चिट्ठी, 12 जून को होने वाले समिट को किया रद्द
  • प्रधानमंत्री मोदी 29 मई से 2 जून के बीच इंडोनेशिया और सिंगापुर दौरे पर जाएंगे: MEA
  • दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के पीएम मार्क रूट से की मुलाकात
  • सीरिया में मिलिट्री पॉजिशन पर अमेरिका ने किया हमला, 12 लोगों की मौत: AFP
  • व्यास नदी प्रदूषण: NGT ने सेंट्रल, पंजाब और राजस्थान पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड को भेजा नोटिस
  • तमिलनाडु हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे DMK के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन पुलिस हिरासत में
  • केरल: कोझिकोड में निपाह वायरस से एक और मौत, मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हुई
  • कर्नाटक: बीजेपी विधायक सुरेश कुमार ने विधान सभा के स्पीकर के लिए नॉमिनेशन भरा
  • द्विपक्षीय महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव नतीजे: बीजेपी ने 2 और एनसीपी ने एक सीट जीती
  • छत्तीसगढ़: पुसवाड़ा में IED ब्लास्ट, एक CRPF जवान शहीद, 206 CoBRA बटालियन का जवान घायल
  • इटली में ट्रेन हुई डीरेल, 2 लोगों की मौत, 1 घायल: AFP के हवाले से
  • उत्तरी बगदाद पार्क में आत्मघाती हमला, 7 लोगों की मौत: AP की रिपोर्ट
  • तमिलनाडु हिंसा: हिंसक प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हुई, 70 घायल
  • तमिलनाडु: तूतीकोरिन में प्रशासन के अगले आदेश तक इंटरनेट सेवा सस्पेंड

सीबीआई ने 'गोमती रिवर फ्रंट' घोटाले की जांच शुरू की, 8 इंजीनियरों के खिलाफ FIR दर्ज

  |   Updated On : December 02, 2017 07:43 PM
गोमती रिवर फ्रंट (फाइल फोटो)

गोमती रिवर फ्रंट (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच शुरू
  •  सीबीआई ने 8 इंजीनियरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया

नई दिल्ली:  

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में समाजवादी पार्टी की सरकार में बने गोमती रिवर फ्रंट में वित्तीय घोटालों की जांच अब केंद्रीय जांच एजेंसी (सीबीआई) ने शुरू कर दी है। सीबीआई ने इस मामले में प्रोजेक्ट से जुड़े 8 इंजीनियरों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया है।

गोमती रिवर फ्रंट परियोजना की कुल लागत 1500 करोड़ रुपये है। सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया, केंद्रीय जांच एजेंसी ने जिन इंजीनियरों के खिलाफ गुरुवार को मामला दर्ज किया, उनके नाम गुलेश चंद, एस. एन. शर्मा, काजिम अली, शिव मंगल यादव, अखिल रमन, कमलेश्वर सिंह, रूप सिंह यादव और सुरेंद्र यादव हैं। गुलेश चंद्र, शिव मंगल यादव, अखिल रमन और रूप सिंह रिटायर हो चुके हैं।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने 20 जुलाई को इस परियोजना की सीबीआई जांच की मांग की थी, जिसकी शुरुआती लागत 656 करोड़ रुपये थी लेकिन बाद में इसे संशोधित कर 1,513 करोड़ रुपये कर दिया गया था।

उत्तर प्रदेश सरकार ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के रिटायर न्यायमूर्ति आलोक सिंह को मामले की जांच के लिए नियुक्त किया था। जस्टिस सिंह ने जून में एक विस्तृत रिपोर्ट पेश की थी।

यह भी पढ़ें: अखिलेश का सवाल, बीजेपी को ईवीएम से 46% तो बैलेट से 15% वोट क्यों?

जस्टिस सिंह ने कथित तौर पर इस परियोजना में बड़े पैमाने पर अनियमितताएं और वित्तीय दुरुपयोग पाया और परियोजना से जुड़े अधिकारियों पर भी सवाल उठाए थे।

बाद में एक समिति का गठन किया गया जिसमें उत्तर प्रदेश के शहरी विकास मंत्री सुरेश खन्ना, राजस्व बोर्ड के अध्यक्ष प्रवीर कुमार, अतिरिक्त मुख्य सचिव (वित्त) अनूप चंद्र पांडे और तत्कालीन प्रधान सचिव (विधि) रंगनाथ पांडे शामिल थे। केंद्र ने 24 नवंबर को मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी।

यह भी पढ़ें: ओवैसी का BJP-कांग्रेस पर निशाना, कहा-झूठ है 'धर्मनिरपेक्षता' का दावा

RELATED TAG: Gomti River Front, Samajwadi Party, Yogi Govt,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो