Breaking
  • बिग बी ने 'कौन बनेगा करोड़पति' की रिकॉर्डिग शुरू की, शो में ऐसे करें रजिस्ट्रेशन -Read More »
  • कर्नाटक फ्लोर टेस्ट: कुमारस्वामी ने 117 वोटों के साथ जीता विश्वासमत -Read More »
  • होटल विवाद मामले में सेना ने मेजर गोगोई के खिलाफ कोर्ट ऑफ इंक्वायरी के दिये आदेश -Read More »
  • सीबीएसई कक्षा 12 का परीक्षा परिणाम कल घोषित किया जाएगा
  • मेजर गोगोई के खिलाफ सेना ने कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी का आदेश दिया
  • केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के अध्यक्ष सुशील चंद्र को मिला एक साल का कार्यकाल विस्तार
  • कर्नाटक फ्लोर टेस्ट: कुमारस्वामी ने जीता विश्वास मत, 117 विधायकों ने समर्थन में किया वोट
  • तूतीकोरिन पुलिस फायरिंग के खिलाफ प्रदर्शन का रही DMK नेता कनिमोझी को पुलिस ने लिया हिरासत में
  • कनाडा: इंडियन रेस्टोरेंट में हुआ धमाका, 15 घायल
  • तेल का खेल जारी, 12 वें दिन बढ़ोतरी के बाद 80 रु के पार पहुंचा पेट्रोल, 70 रु के पार डीजल, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • कर्नाटक विधानसभा में सीएम कुमारस्वामी आज साबित करेंगे बहुमत, पढ़ें पूरी खबर -Read More »
  • ट्रंप के बैठक रद्द करने के बावजूद किम मुलाकात के लिए तैयार, पढ़ें पूरी खबर -Read More »

वैज्ञानिकों ने खोज निकाला सबसे छोटा तारा

  |   Updated On : July 12, 2017 07:30 PM
EBLM J0555-57Ab नाम से जाना जाएगा नया तारा

EBLM J0555-57Ab नाम से जाना जाएगा नया तारा

नई दिल्ली :  

वैज्ञानिकों ने ब्रह्माण्ड का सबसे छोटा तारा खोज निकला है। यह नया तारा अकार में शनि ग्रह से थोड़ा बड़ा है। माना जा रहा है कि इसके कक्ष में पृथ्वी के आकार के ग्रह मौजूद है। ब्रिटेन की कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने लगभग 600 प्रकाश वर्ष दूर स्थित इस तारे को ढूंढ निकाला। इसे EBLM J0555-57Ab नाम से जाना जाएगा।

रिसर्चर्स का कहना है कि इससे छोटे तारे का होना संभव नहीं है क्यूंकि हाइड्रोजन के नूक्लीई को हीलियम में विलय के लिए जितना वजन होना चाहिए इसका वजन उतना ही है। अगर इस से काम वजन होगा तो तारे के भीतर का दबाव इस प्रक्रिया को पूरा नहीं होने देगा। शनि ग्रह से थोड़े से बड़े इस तारे के सतह का गुर्त्वाकर्षण खिंचाव हमारी पृथ्वी के गुर्त्वाकर्षण से 300 गुना अधिक है।

और पढ़े: आकाशगंगा का सबसे कम चमक वाला उप तारामंडल खोजा

रिसर्चर्स के अनुसार यह खोज इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्यूंकि इसके कक्ष में पृथ्वी जैसे ग्रह मजूद है जिनकी सतहों पर पानी के मौजूद होने की संभावना है। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के स्नातकोत्तर के छात्र एलेक्सेंडर बॉयटिशर ने बताया, 'हमारे अनुसंधान से पता चला कि कोई तारा कितना छोटा हो सकता है। अगर इस टारे का वजन इस से थोड़ा भी काम होता तो तारा बनने की प्रक्रिया पति और यह ड्वार्फ में परिवर्तित हो जाता।'

इस तारे के वजन की तुलना TRAPPIST-1 के वजन से की जा सकती है। लेकिन इसका रेडियस उससे लगभग 30 प्रतिशत छोटा है।

और पढ़े: बेंगलुरू की साहिथी पिंगाली के नाम पर अब होगा प्लैनेट

RELATED TAG: Smallset Star, Universe, Saturn, Earth, Trappist-1,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो