नवरात्रि 2017: इस मंत्र से करें देवी कात्यायनी की पूजा

मंदिर या घर पर मां कात्यायनी की प्रतिमा/तस्वीर स्थापित करें। प्रतिमा को तिलक लगाने के बाद जोत जलाएं।

  |   Updated On : September 26, 2017 09:30 AM
आज देवी के छठे स्वरूप की पूजा हो रही है (फाइल फोटो)

आज देवी के छठे स्वरूप की पूजा हो रही है (फाइल फोटो)

मुंबई :  

नवरात्रि के छठे दिन देवी के छठे स्वरूप मां कात्यायनी की पूजा होती है। माना जाता है कि मां कात्यायनी ने महिषासुर का मर्दन किया था। देवी के इस स्वरूप की पूजा विवाह के इच्छुक लोगों और गृहस्थी के लिए लाभकारी होता है।

महर्षि कात्यायन ने कठिन तपस्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था। महर्षि कात्यायन के नाम पर ही देवी के इस स्वरूप का नाम कात्यायनी पड़ा। इन्हें दानवों और असुरों का नाश करने वाली देवी भी कहा जाता है।

ये भी पढ़ें: नवरात्रि 2017: जानें अखंड ज्योति जलाने के फायदे लेकिन साथ ही बरतें यह सावधानियां

ऐसा है मां का स्वरूप

मां कात्यायनी की चार भुजाएं हैं और वह शेर पर सवार रहती हैं। इनके बाएं हाथ में कमल-तलवार और दाहिने हाथ में स्वास्तिक-आशीर्वाद की मुद्रा है। सुसज्जित आभा मंडल वाली देवी मां का स्वरूम बेहद मनमोहक है।

इस मंत्र के साथ शुरू करें पूजा

चन्द्रहासोज्जवलकरा शाईलवरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।।

ऐसे करें कात्यायनी की पूजा

मंदिर या घर पर मां कात्यायनी की प्रतिमा/तस्वीर स्थापित करें। प्रतिमा को तिलक लगाने के बाद जोत जलाएं। विधि-विधान से मां कात्यायनी की आरती करने के बाद गोबर का उपला जलाकर लौंग-इलायची का भोग लगाएं।

ये भी पढ़ें: प्रेग्नेंट महिलाए इस तरह रखें व्रत, बच्चे पर नहीं पड़ेगा बुरा प्रभाव

First Published: Tuesday, September 26, 2017 07:21 AM

RELATED TAG: Navratri 2017,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS और Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो