Breaking
  • ट्राई ने घटाई टर्मिनेशन दरें, कम होगा आपका मोबाइल बिल -Read More »
  • रॉकेट मैन अपने लोगों और भ्रष्ट शासन के लिए आत्मघाती मिशन पर: ट्रंप -Read More »
  • इकबाल कासकर मामले में दाऊद और नेताओं के रोल की भी होगी जांच -Read More »

Eid ul Adha 2017: कुर्बानी का त्योहार होता है बकरीद, जानिए इसकी कहानी

By   |  Updated On : September 01, 2017 12:39 PM

नई दिल्ली:  

ईद-उल-अधा देश भर में 1-2 सितंबर को मनाया जाएगा। इसे बकरीद के नाम से भी जाना जाता है। इस त्योहार को अल्लाह की मांग पर हजरत इब्राहम (अब्राहम) के अपने बेटे का बलिदान करने को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है।

इस त्योहार को लेकर लोगों में मान्यता है कि एक बार अल्लाह ने हजरत इब्राहिम को सपने में अपनी प्रिय चीज की कुर्बानी देने का आदेश दिया। माना जाता है कि हजरत को अपने बेटे से बेहद लगाव था। इसलिए उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी देने की तैयारी कर ली। लेकिन कुर्बानी देने के बाद भी उनका बेटे को खुदा ने जिंदा कर दिया।

इसलिए बकरीद मनाने के लिए लोग कम से कम 2 या 3 पहले बकरे या ऊंट को पालते है। फिर बकरीद वाले दिन उसका बलिदान करते है। इसका गोश्त तीन बराबर हिस्सों में बांटा जाता है। एक हिस्सा गरीबों के लिए, एक हिस्सा रिश्तेदारों और मिलने-जुलने वालो के लिए और एक हिस्सा अपने लिए होता है।

इस प्रथा को निभाते हुए इस दिन जानवरों की कुर्बानी दी जाती है। इस त्योहार से पहले देशभर के बाजारों में बकरे के बाजार सजाए जाते हैं। हालांकि नवजात बकरे की कुर्बानी नहीं दी जाती है, बकरे को डेढ-दो साल का होना जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ें: ढ़ाई लाख से लेकर साढ़े सात लाख तक में बिक रहे बकरे

RELATED TAG: Eid Ul Adha 2017,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो