कार्तिक पूर्णिमा 2017: भक्तों ने गंगा में लगाई आस्था की डुबकी, जानें क्या है मान्यता

  |   Updated On : November 04, 2017 08:41 AM
वाराणसी में गंगा घाट पर उमड़ी भक्तों की भीड़ (ANI)

वाराणसी में गंगा घाट पर उमड़ी भक्तों की भीड़ (ANI)

नई दिल्ली:  

हिंदू पंचाग के मुताबिक एक साल में 16 अमावस्या आती है। सबसे लंबी और काली अमावस्या कार्तिक माह की होती है। इस दिन दिवाली की पूजा होता है। वहीं इस त्योहार के 15 दिन बाद कार्तिक माह की पूर्णिमा आती है, जो रोशनी लेकर आती है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का खास महत्व होता है।

इस खास अवसर पर उत्तराखंड में हरिद्वार के घाट पर सुबह-सुबह लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। सभी ने आस्था की डुबकी लगाई।

ये भी पढ़ें: गुरु नानक जयंती 2017: जानिए क्यों मनाया जाता है गुरु पर्व

ठंड होने के बावजूद वाराणसी में भी भारी संख्या में लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई।

क्या है मान्यता

इस दिन मां गंगा की पूजा की जाती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इसी दिन शिव जी ने त्रिपुरासुर का वध किया था। यह भी मान्यता है कि सभी देव काशी आकर गंगा माता की पूजा करके देव दिपावली मनाते हैं।

ये भी पढ़ें: मीठी से लेकर मसालेदार तक जानिए भारत में खिचड़ी के 9 रूप

RELATED TAG: Kartik Purnima,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो