Breaking
  • अफ़गानिस्तान: काबुल में NATO ऑफिस के पास बम धमाका, 1 की मौत 6 घायल
  • मध्यप्रदेश: मुंगौली-कोलारस विधानसभा सीट पर सुबह 10 बजे तक 17 प्रतिशत वोटिंग
  • दिल्ली: रोहिणी के रानी खेरा इलाके स्थित एक गोदाम में लगी आग, 5 दमकल गाड़ियां मौके पर
  • मध्यप्रदेश: मुंगौली-कोलारस विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए डाले जा रहे वोट -Read More »
  • एक और 'नीरव मोदी' के खिलाफ FIR, OBC को 389 करोड़ रुपये का लगाया चूना -Read More »

मध्यप्रदेश: कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा राष्ट्रपति चुनाव में नही करेंगे वोट, HC ने याचिका की रद्द

  |  Updated On : July 16, 2017 09:30 PM
मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा (पीटीआई)

मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा (पीटीआई)

ख़ास बातें
  •  नरोत्तम मिश्रा की 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में मतदान की याचिका रद्द कर दी
  •  मिश्रा को 2008 के विधानसभा चुनाव में पेड न्यूज पर खर्च की गई राशि का ब्योरा न देने को लेकर निर्वाचन आयोग ने अयोग्य घोषित कर दिया था
  •  एकल पीठ ने राष्ट्रपति चुनाव में मतदान की उनकी याचिका खारिज कर दी थी

नई दिल्ली:  

दिल्ली उच्च न्यायालय ने रविवार को मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्रा की 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में मतदान की याचिका रद्द कर दी। मिश्रा को 2008 के विधानसभा चुनाव में पेड न्यूज पर खर्च की गई राशि का ब्योरा न देने को लेकर निर्वाचन आयोग ने अयोग्य घोषित कर दिया था।

न्यायाधीश मुरलीधर और न्यायाधीश प्रतिभा सिंह की सदस्यता वाली खंडपीठ ने एकल पीठ के आदेश को चुनौती देने वाली मिश्रा की याचिका खारिज कर दी। एकल पीठ ने राष्ट्रपति चुनाव में मतदान की उनकी याचिका खारिज कर दी थी।

एकल पीठ ने शुक्रवार को उनकी उस याचिका को भी खारिज कर दी थी, जिसमें उन्होंने अपने चुनाव खर्च के ब्योरे में पेड न्यूज पर खर्च हुई राशि का खुलासा नहीं करने के कारण निर्वाचन आयोग द्वारा 23 जून को अयोग्य घोषित किए जाने और तीन वर्षो तक चुनाव लड़ने पर रोक लगाने के फैसले को चुनौती दी थी।

सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को मिश्रा को मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय से कोई अंतरिम राहत न मिलने के बाद उन्हें दिल्ली उच्च न्यायालय में गुहार लगाने का निर्देश दिया था।

राष्ट्रपति चुनाव से पहले सोनिया की हुंकार-संख्या हमारे खिलाफ, लेकिन हम पूरी ताकत से लड़ेंगे

मिश्रा ने अपनी याचिका की उच्च न्यायालय या फिर खुद सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ही सुनवाई के लिए शीर्ष न्यायालय से गुहार लगाई थी, ताकि वह 17 जुलाई को होने वाले चुनाव में शामिल हो सकें।

शीर्ष न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि इस मामले के फैसले का इस बात पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा कि मिश्रा की विधानसभा सदस्यता रहेगी या नहीं और वह राष्ट्रपति चुनाव में वोट दे पाएंगे या नहीं।

निर्वाचन आयोग ने मिश्रा को 2008 के विधानसभा चुनाव के दौरान स्थानीय मीडिया में पेड न्यूज पर हुए खर्च का ब्योरा न देने को लेकर अयोग्य घोषित करते हुए कहा था कि यह 'पेड न्यूज का गंभीर' मामला है जो चुनावी परिदृश्य में 'खतरनाक स्तर' पर बढ़ रहा है।

निर्चाचन आयोग ने अपने आदेश में कहा था कि पांचों हिंदी समाचार पत्रों में जो 42 समाचार प्रकाशित हुए थे, वे सभी मिश्रा के पक्ष में झुके हुए थे।

सोमवार को होगा राष्ट्रपति चुनाव, खास पेन से डाले जाएंगे वोट

RELATED TAG: Presidential Election, High Court, Narottam Mishra,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो