Breaking
  • शुक्रवार की क्लोजिंग के मुकाबले 25 फीसदी प्रीमियम पर बायबैक करेगी इंफोसिस
  • यूपी में ख़राब कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल से की मुलाक़ात
  • इंफोसिस के बोर्ड ने 13,000 करोड़ रुपये के बायबैक को दी मंजूरी
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां ज़िले के 9 गांवो में सुरक्षाकर्मियों ने शुरु किया सर्च ऑपरेशन

मुबंई हमले में शहादत देने वालों को देश हमेशा करता रहेगा सलाम

Updated On : Nov 26, 2016 05:57 AM

मुबंई हमले के जख्म जस के तस

मुबंई हमले के जख्म जस के तस

मुबंई में हुए 26/11 हमले को आज यानि शनिवार को 8 साल हो गए हैं। लेकिन आज भी देशवासियों के जख्म जस के तस हैं, जो शायद ही कभी भर सके।

महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे

महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे

26 नवंबर 2008 को पूरी मुबंई आतंकवादियों की बंधक बन गई थी। 2008 के इस आतंकी हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग जख्मी हुए थे। महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख हेमंत करकरे आतंकियों से लोहा लेते हुए इस हमले में शहीद हो गए थे।

पुलिस अधिकारी विजय सालस्कर

पुलिस अधिकारी विजय सालस्कर

पुलिस अधिकारी विजय सालस्कर ने निर्दोष लोगों को बचाने के लिए अपनी जान न्यौछावर कर दी थी।

जाबांज आईपीएस अशोक कामटे

जाबांज आईपीएस अशोक कामटे

जाबांज आईपीएस अशोक कामटे की शहादत को भी आज पूरा देश नमन करता है। इनकी कुर्बानी आज भी आज देशवासी के दिल में जिंदा है।

एनएसजी के कमांडो मेजर संदीप उन्नीकृष्णन

एनएसजी के कमांडो मेजर संदीप उन्नीकृष्णन

एनएसजी के कमांडो मेजर संदीप उन्नीकृष्णन और कसाब को पकड़ने वाले एएसआई तुकाराम ओंबले शहीद हो गए।

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो