Breaking
  • मिस्र के उत्तरी प्रांत सिनाई में आतंकी हमला, 75 लोगों के घायल होने की खबर
  • Ind Vs SL: श्रीलंका पहली पारी में 205 रन पर ऑल-आउट

जानिए, बैसाखी को क्यों कहते हैं किसानों का त्यौहार

Updated On : Apr 13, 2017 06:07 AM

फाइल फोटो

फाइल फोटो

13 अप्रैल को देश में अलग-अलग जगहों पर बैसाखी मनाई जा रही है। इसे असम में बिहु, बंगाल में नबा वर्षा और केरल में पूरम विशु नाम से जाना जाता है। इसे किसानों का त्यौहार भी कहते हैं।

बैसाखी मनाती महिलाएं (फोटो: ANI)

बैसाखी मनाती महिलाएं (फोटो: ANI)

सिख धर्म की स्थापना और फसल पकने के प्रतीक के रूप में बैसाखी मनाई जाती है। इस महीने खरीफ की फसल पूरी तरह से पक जाती है और इसे काटने की तैयारी शुरू हो जाती है। इस खुशी में यह त्यौहार मनाया जाता है।

फोटो: ANI

फोटो: ANI

आज के ही दिन पंजाबी नए साल की शुरुआत होती है। इसके साथ ही इस दिन को मौसम बदलने का प्रतीक भी माना जाता है। अप्रैल के महीने में सर्दी पूरी तरह से खत्म हो जाती है और गर्मियां शुरू होती हैं।

फोटो: ANI

फोटो: ANI

बैसाखी को इसलिए भी मनाया जाता है, क्योंकि 13 अप्रैल 1699 को सिख पंथ के 10वें गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की थी।

फोटो: ANI

फोटो: ANI

पंजाब के अमृतसर में बैसाखी के त्यौहार को महिलाओं ने सेलिब्रेट किया।

फोटो: ANI

फोटो: ANI

अमृतसर के गोल्डन टेंपल में श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई।

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो