Breaking
  • टेरर फंडिंग केस: सैयद अली शाह गिलानी के बेटों नईम गिलानी और नसीम गिलानी को एनआईए ने समन भेजा
  • सुप्रीम कोर्ट ने आय से अधिक संपत्ति मामले में AIADMK नेता वी.के शशिकला की पुनर्विचार याचिका खारिज की
  • निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं, गुरुवार को आएगा SC का फैसला
  • रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, PM बोले- इंतजार करें -Read More »
  • रेल हादसों के बाद रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने इस्तीफे की पेशकश की

Birthday Special: रहमान की ज़िंदगी की पांच बाते जो आपको जाननी चाहिए

Updated On : Nov 30, -0001 00:00 AM

ए आर रहमान

ए आर रहमान




रहमान के 48वें जन्मदिन पर हम आपको उनसे जुड़ी ऐसी ही अनोखी और अंजानी बातें बताते हैं जो जब रहमान 9 साल के ही थे, तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई थी। इसके बाद उनकी आर्थिक स्थिति बदल गई। तब वे अपने पिता के वाद्ययंत्रों को किराए से देकर अपना घर चलाने लगे थे। रहमान एक बेहतर की-बोर्ड प्लेयर थे। स्कूल में अटेंडेंस कम होने के चलते 15 साल की उम्र में ही रहमान को पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी।

रहमान को 1992 में 'रोजा' फिल्म से अपने करियर का एक बड़ा ब्रेक मिला था। उसके बाद से उन्होंने 'रंगीला', 'ताल', 'दिल से', 'जोधा अकबर' और 'रंग दे बसंती' जैसी कई फिल्मों के लिए शानदार संगीत तैयार किया है। एंड्रयू लॉयड बेबर ने ब्रोडवे म्यूजिकल 'बाम्बे ड्रीम्स' का संगीत तैयार करने का प्रस्ताव देकर उन्हें पहला अंतर्राष्ट्रीय ब्रेक दिया था, जिसने उन्हें अपार ख्याति दिलाई थी। वर्ष 2014 में 'मिलियन डॉलर आर्म', 'द हंड्रड-फुट जर्नी' और भारतीय फिल्म 'कोचादइयां' के लिए भी उनका काम ऑस्कर के दावेदारों में था।

रहमान इससे पहले 2009 में अपनी फिल्म 'स्लमडॉग मिलियनेयर' के लिए दो ऑस्कर जीतकर भारत का नाम रोशन कर चुके हैं। उन्हें फिल्म के गीत 'जय हो' के लिए बेस्ट ऑरिजिनल स्कोर और बेस्ट ऑरिजिनल सॉन्ग के लिए पुरस्कार दिया गया था।

रहमान बचपन में

रहमान बचपन में

रहमान बचपन में तीन अक्षरों का इस्तेमाल करते थे-एलएफए। इसका मतलब था-लव फेलियर्स एसोसिएशन।

रहमान और पत्नी सायरा बानो

रहमान और पत्नी सायरा बानो


पहले उनका नाम दिलीप कुमार था। बाद में उन्होंने अपना नाम बदलकर अल्लाहरखां रहमान रख लिया था। यह भी दिलचस्प संयोग है कि अभिनेता दिलीप कुमार की पत्नी सायरा बानो की तरह रहमान उर्फ दिलीप कुमार की पत्नी का नाम भी सायरा बानो है।

रहमान और लता मंगेश्कर

रहमान और लता मंगेश्कर

रहमान हमेशा रात में ही रिकॉर्डिग करते हैं, लेकिन लता मंगेशकर के लिए उन्होंने हमेशा सुबह ही रिकॉर्डिग की, क्योंकि लता का मानना रहा है कि सुबह उनकी आवाज में ताजगी होती है, इसलिए रहमान ने अपनी फिल्मों के गानों की रिकॉर्डिंग उनके साथ सुबह के वक्त ही की है।

ऑस्कर पुरस्कार जीतने के बाद रहमान

ऑस्कर पुरस्कार जीतने के बाद रहमान

एक ही साल में 2 ऑस्कर पुरस्कार जीतने वाले वे पहले एशियाई संगीतकार हैं। उन्हें फिल्म स्लमडॉग मिलेनियर के लिए मिला।

रहमान ने निजी टेलिकॉम कंपनी का टोन बनाया।

रहमान ने निजी टेलिकॉम कंपनी का टोन बनाया।

एक निजी टेलिकॉम कंपनी की प्रसिद्ध टोन को भी, संगीतकार रहमान ने ही गाया है, जो दुनिया की सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली टोन बनी।

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो