परिवार की भलाई के लिये बेटे की नर बलि देने वाले पिता को उम्रकैद

By   |  Updated On : May 19, 2017 09:21 AM

नई दिल्ली :  

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले की एक अदालत ने एक व्यक्ति को उम्रकैद की सजा सुनाई है। उस पर आरोप है कि उसने ‘नर बलि’ में नाबालिग बेटे का सर काट दिया था।

सरकारी वकील अनिल श्रीवास्तव ने बताया कि रायगढ़ के स्पेशल कोर्ट के जज मनीष कुमार नायडू आरोपी रणविजय को दोषी पाया और उसे उम्रकैद की सज़ा सुनाई है।

अनिल श्रीवास्तव ने बताया कि अदालत ने कोटरारोड के भगवानपुर गांव के निवासी भारती पर 5,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

श्रीवास्तव ने कहा कि भारती ने 6 जनवरी 2016 को अपने परिवार की ‘भलाई’ के लिए ‘नर बलि’ के लिये अपने 14 साल के बेटे चंदन का सिर काट दिया था।

उन्होंने बताया कि बच्चे का शव 7 जनवरी को गांव के करीब एक कब्रिस्तान के पास मिला था।

सीसीटीवी और दूसरे तथ्यों के आधार पर भारती को उत्तर प्रदेश के आज़मगढ़ जिले से गिरफ्तार किया गया था।

भारती ने ये नर बलि व्यापार में आए घाटे से उबरने के लिये दिया।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे