Breaking
  • आरजेडी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद सीएम नीतीश के आवास पर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था
  • NDA में शामिल हुई जेडी-यू, 'बागी' शरद यादव के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई -Read More »
  • शुक्रवार की क्लोजिंग के मुकाबले 25 फीसदी प्रीमियम पर बायबैक करेगी इंफोसिस
  • यूपी में ख़राब कानून व्यवस्था को लेकर समाजवादी पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल से की मुलाक़ात
  • इंफोसिस के बोर्ड ने 13,000 करोड़ रुपये के बायबैक को दी मंजूरी -Read More »
  • उत्तर प्रदेश के गोरखपुर पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां ज़िले के 9 गांवो में सुरक्षाकर्मियों ने शुरु किया सर्च ऑपरेशन

नागालैंड में राजनीतिक संकट, लीजीत्सु को 15 जुलाई तक साबित करना होगा बहुमत

By   |  Updated On : July 11, 2017 10:51 PM

ख़ास बातें
  •  नगालैंड के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री लीजीत्सु को 15 जुलाई तक बहुमत साबित करने के लिए कहा
  •   पूर्व मुख्यमंत्री टी.आर.जेलियांग ने 34 विधायकों तथा सात निर्दलीय विधायकों के समर्थन का दावा किया है

नई दिल्ली:  

नगालैंड के राज्यपाल पी.बी.आचार्य ने प्रदेश में सत्तारूढ़ नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) में भारी अंतर्कलह तथा मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग के मद्देनजर मुख्यमंत्री शुरहोजेली लीजीत्सु को 15 जुलाई तक बहुमत साबित करने के लिए कहा है।

एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, 'यह निर्देश प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री टी.आर.जेलियांग द्वारा राज्य में नई सरकार के गठन को लेकर अपना दावा सौंपने के बाद दिया गया है। जेलियांग ने 34 विधायकों तथा सात निर्दलीय विधायकों के समर्थन का दावा किया है।'

राजनीतिक अस्थिरता ऐसे वक्त में सामने आई है, जब लीजीत्सु 29 जुलाई को नॉर्दर्न अंगामी-आई विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

जनजाति समूहों द्वारा महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण के साथ निकाय चुनाव कराने के विरोध में हिंसक विरोध-प्रदर्शन के बाद जेलियांग ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद 22 फरवरी को लीजीत्सु मुख्यमंत्री बने थे।

इसे भी पढ़ें: दार्जिलिंग हिंसा: पुलिस लाठीचार्ज में घायल जीजेएम कार्यकर्ता की मौत

जेलियांग ने नई सरकार बनाने के दावे को लेकर रविवार को राज्यपाल को एक खत लिखा था। अगले ही दिन लीजीत्सु ने अपने चार शीर्ष मंत्रियों तथा 10 संसदीय सचिवों को बर्खास्त कर दिया। यह बर्खास्तगी मुख्यमंत्री को हटाने की मांग के प्रतिक्रिया स्वरूप की गई।

पार्टी के विधायक दल में विद्रोह तब शुरू हुआ, जब कुछ सदस्यों ने लीजीत्सु पर अपने बेटे ख्रिहू लीजीत्सु को कैबिनेट मंत्री का दर्जा और वेतन के साथ अपना सलाहकार नियुक्त करने को लेकर 'भाई-भतीजावाद' करने का आरोप लगाया।

पिता को मुख्यमंत्री पद पर बरकरार रखने के लिए ख्रिहू ने नॉर्दर्न अंगामी-आई विधानसभा क्षेत्र से इस्तीफा दे दिया। वहीं उन्होंने सोमवार को नियुक्ति से इनकार किया। 60 सदस्यीय विधानसभा में सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक अलायंस ऑफ नागालैंड गठबंधन में एनपीएफ के 47 विधायक, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के चार तथा आठ निर्दलीय विधायक हैं। एक सीट खाली है।

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार के पहले बजट में किसानों की कर्जमाफी के लिए 36,000 करोड़

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो