Breaking
  • बलूचिस्तान: क्वेटा में चर्च के पास धमाका, चार घायल
  • INDvSL तीसरा वनडे: भारत ने टॉस जीतकर लिया गेंदबाजी का फैसला
  • असम के धेमाजी में आया 4.2 तीव्रता का भूकंप
  • सुरक्षा बलों ने बारामुला के पट्टन इलाके में सर्च ऑपरेशन किया लॉन्च
  • पाकिस्तान सरकार ने जाधव की पत्नी और मां के वीजा को किया मंजूर
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी सांसद और पद अधिकारियों को दिया डिनर का न्योता
  • मध्यप्रदेश: कांग्रेस नेता कमल नाथ पर बंदूक तानने वाले पुलिस कांस्टेबल के खिलाफ FIR दर्ज
  • अमृतसर, जालंधर और पटियाला की 32 नगर परिषदों और नगर पंचायतों पर मतदान हुआ शुरू
  • गुजरात चुनाव: आज 6 बूथों पर फिर से होगा मतदान

मणिपुर के सीएम का वादा, फुटपाथ पर दुकान लगाने वाली महिलाओं को मिलेगा ऋण

  |  Updated On : November 29, 2017 04:37 PM
 मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह  (फाइल फोटो)

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  मणिपुर के सीएम ने रेहड़ी-पटरी लगाने वाली महिलाओं को से आसान ऋण का किया वादा
  •  मणिपुर में सभी बाजार महिलाओं द्वारा चलाए जाते हैं
  •   सरकार द्वारा सड़कों पर फेरी वालों को हटाने की यह दूसरी कोशिश

इंफाल:  

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने इंफाल के सभी फुटपाथों और दूसरी खाली जगहों पर रेहड़ी-पटरी लगाने वाली हजारों महिला विक्रेताओं को आसान ऋण देने का वादा किया है।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया द्वारा इंफाल नगर निगम को दान किए गए एक कचरे के ट्रक के कमीशनिंग समारोह के मौके पर उन्होंने कहा, 'इससे शहर से बहुत दूर रहने वाली महिला विक्रेता कमाई के कुछ अन्य माध्यमों से आजीविका अर्जित करने में सक्षम होंगी'

मणिपुर में सभी बाजार विशेष रूप से महिलाओं द्वारा चलाए जाते हैं।

बीरेन सिंह ने कहा, 'फेरी लगाने वाली महिला विक्रेताएं तेजी से बढ़ते शहर में यातायात और पैदल चलने वाले लोगों को बाधित करती हैं। बैंक ऋण के साथ विक्रेता बुनाई, बतख व मुर्गी पालन और कहीं भी व्यापार शुरू कर सकती हैं।'

और पढ़ें: पंजाब: AAP नेता सुखपाल खैहरा के बिगड़े बोल, सीएम अमरिंदर सिंह को बताया नाले का कीड़ा

उन्होंने कहा, 'ऐसी स्थिति होने पर शहर में कही भीड़भाड़ नहीं होगी।' सरकार द्वारा सड़कों पर फेरी वालों को हटाने की यह दूसरी कोशिश है।

कुछ महीने पहले मंत्री टी. श्यामकुमार ने शहर को स्वच्छ बनाने के लिए सड़क पर फेरी लगाने वाले विक्रेताओं को हटा दिया था। लेकिन कुछ ही घंटे में महिलाएं अपनी अपनी जगह पर वापस आ गईं। मंत्री इंफाल नगर निगम के प्रभारी हैं।

बुधवार को समारोह में उपस्थित श्यामकुमार ने कहा, 'हम महिला विक्रेताओं से सहयोग की इच्छा रखते हैं और उनसे अपील करते हैं कि वह सड़कों पर फलों और सब्जियों के छिलके न फैलायें।'

और पढ़ें: राहुल गांधी के सोमनाथ मंदिर दर्शन पर पीएम मोदी का वार, कहा- पटेल नहीं होते तो कहां घूमते

महिला विक्रेताओं ने तुरंत ही मुख्यमंत्री के सुझाव पर प्रतिक्रिया दी। जिसमें सिंह ने कहा था कि महिला विक्रेताओं ने नए व्यवसाय को शुरू करने के लिए ऋण लिया है।

मछली विक्रेता पिशाकमचा ने कहा कि वह इंफाल आने वाले कई मछुआरों से मछलियां खरीदती है और बहुत ही कम मुनाफे पर अपना परिवार चलाती है। उन्होंने कहा कि मैं मुर्गियां या बतख पालन कर अपना जीवन नहीं चला सकती।

और पढ़ें: संघर्ष का मतलब निराशा महसूस कराना नहीं, बल्कि आपमें सुधार लाना है: बमन ईरानी

नुंगशिटोम्बी लैशराम एक फल विक्रेता है जो रोज सुबह 3 बजे इंफाल पहुंच जाती हैं। उन्होंने कहा, "मेरी उम्र 70 साल की है और मैं कोई अन्य काम नहीं कर सकती हूं।'

गौरतलब है, पहले महिला विक्रेताओं को एक वैकल्पिक बाजार आवंटित किया गया था लेकिन उन्होंने नई जगह जाने से इंकार कर दिया था। महिला विक्रेताओं ने कहा कि वह बाजार ग्राहकों के लिए अनुकूल नहीं था।

और पढ़ें: फिट रहने के लिए आमिर से प्रेरणा लेते हैं करन

RELATED TAG: Manipur, Imphal, N Biren Singh, Footpath,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो