Breaking
  • अशोक कुमार मित्तल के इस्तीफे के बाद अश्विनी लोहानी को बनाया गया रेलवे बोर्ड का नया चेयरमैन- ANI
  • निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं, गुरुवार को आएगा SC का फैसला
  • रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, PM बोले- इंतजार करें -Read More »
  • रेल हादसों के बाद रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने इस्तीफे की पेशकश की

Wimbledon 2017: 8वां विंबलडन खिताब जीत रोजर फेडरर ने रचा इतिहास

By   |  Updated On : July 17, 2017 11:32 AM
8वां विंबलडन जीत रोजर फेडरर ने बनाया इतिहास  (फाइल फोटो)

8वां विंबलडन जीत रोजर फेडरर ने बनाया इतिहास (फाइल फोटो)

ख़ास बातें
  •  स्विट्जरलैंड के स्टार टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर ने 8वां विंबलडन और 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीत लिया है
  •  फेडरर ने फाइनल मुकाबले में क्रोएशिया के मारिन सिलिक को 6-4, 6-1 और 6-4 से हराकर बनाया इतिहास 

नई दिल्ली:  

स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने रविवार को क्रोएशिया के मारिन सिलिक को आसानी से हराते हुए साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का पुरुष एकल खिताब जीत लिया। ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकार्ड आठवीं खिताबी जीत है।

अपने दूसरे ग्रैंड स्लैम और पहले विंबलडन खिताब के लिए प्रयासरत सिलिक की फेडरर के सामने एक नहीं चली। अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिक को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया।

2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिक ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन का बादशाह नहीं बनने दिया।

दूसरी ओर, इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीत चुके फेडरर विंबलडन में अपना 11वां फाइनल खेलते हुए एक बार फिर विजेता बने। वह 2014, 2015 में भी फाइनल में पहुंचे थे लेकिन वह सर्बिया के नोवाक जोकोविक के हाथों हार गए थे। इसके अलावा 2016 में वह सेमीफाइनल में कनाडा के मिलोस राओनिक के हाथों हार गए थे।

राष्ट्रपति चुनाव पहले विपक्ष की अमह बैठक, JDU ने बनाई दूरी

बहरहाल, पहले सेट की शुरुआत में सिलिक ने अपना क्लास दिखाया और एक समय 2-2 की बराबरी पर पहुंच गए थे लेकिन बाद में वह फेडरर के अद्वितीय क्लास और अनुभव के आगे बेबस नजर आए। फेडरर ने यह सेट 6-3 से अपने नाम कर मैच को दूसरे सेट तक बढ़ाया।

दूसरा सेट सिलिक के लिए और भी निराशाजनक साबित हुआ। वह इस सेट में एक गेम जीत सके। फेडरर ने अपना वर्चस्व कायम करते हुए यह सेट 6-1 से जीता और यह जता दिया कि उनके अनुभव और क्लासिक टेनिस के आगे सिलिक की तेजतर्रार सर्विस की एक नहीं चलने वाली है।

तीसरे और निर्णायक सेट में सिलिक ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2-1 की बढ़त हासिल कर ली। वह इस सेट में पहले से बेहतर नजर आए। फेडरर ने इसके बाद दो गेम जीतते हुए 3-3 की बराबरी और फिर 5-3 से आगे हो गए लेकिन सिलिक ने स्कोर 4-5 कर मैच को रोमांच देने का प्रयास किया लेकिन फेडरर ने यहां अपने अनुभव का कमाल दिखाते हुए सिलिक को वापसी का मौका नहीं दिया और सेट के साथ मैच भी अपने नाम किया।

कांग्रेस ने दिखाए कड़े तेवर, कहा- संसद में मांगेगे हर मुद्दे पर जवाब

इस तरह फेडरर ने आठवीं बार ऑल इंग्लैंड क्लब में अपना परचम लहराया। एक समय उन्हें चुका हुआ कहा जाने लगा था लेकिन इस कद्दावर खिलाड़ी ने कोर्ट पर शानदार वापसी करते हुए अपनी प्रतिष्ठा के साथ न्याय किया। फेडरर ने इससे पहले 2003, 2004, 2005, 2006, 2007, 2009 और 2012 में यहां चैम्पियन बनने का गौरव हासिल किया था।

विंबलडन में आठ खिताब के अलावा फेडरर पांच बार आस्ट्रेलियन ओपन, एक बार फ्रेंच ओपन और पांच बार अमेरिकी ओपन खिताब जीत चुके हैं। 

RELATED TAG: Wimbledon 2017 Final,

देश, दुनिया की हर बड़ी ख़बर अब आपके मोबाइल पर, डाउनलोड करें न्यूज़ स्टेट एप IOS ओर Android यूज़र्स इस लिंक पर क्लिक करें।

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरे

वीडियो

फोटो