हॉकी इंडिया लीग 2017: दिल्ली वेबराइर्डस ने पंजाब वॉरियर्स को दी 6-1 से काररी शिकस्त

By   |  Updated On : February 17, 2017 10:45 PM

नई दिल्ली:  

दिल्ली वेबराइर्डस ने शुक्रवार को शानदार प्रदर्शन करते हुए हॉकी इंडिया लीग (एचआईएल) के पांचवें संस्करण में मेजबान पंजाब वॉरियर्स को 6-1 से काररी शिकस्त दी।

हॉकी स्टेडियम में खेले गए इस मैच में दिल्ली के लिए रीड रोज, कप्तान रूपिंदर पाल सिंह, मनदीप सिंह और ईयान लुइस ने गोल दागे। पंजाब के लिए मार्क ग्लेगहोर्न ने एक मात्र गोल किया। इस जीत के साथ दिल्ली की टीम तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। उसके आठ मैचों में 21 अंक हो गए हैं। पंजाब की टीम आठ मैचों में 17 अंकों के साथ अंतिम स्थान पर आ गई है।

पंजाब और दिल्ली दोनों टीमों की कोशिशें सेमीफाइनल में जगह बनाने की थी। दिल्ली को चौथे मिनट में ही पेनाल्टी कॉर्नर मिला। इस मौके को रोज ने हाथ से जाने नहीं दिया और गोल कर अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया।

और पढ़ें:डैरेन स्मिथ ने न्यूजीलैंड हॉकी टीम के मुख्य कोच की संभाली कमान

इस गोल ने दिल्ली में आत्मविश्वास पैदा किया और यहां से उसने पंजाब पर दबाव बनाना शुरू कर दिया। इस बीच पंजाब ने भी गोल करने का प्रयास किया लेकिन जैक व्हेटन के शॉट को दिल्ली के गोलकीपर विसेंट वानश ने रोक लिया।

दूसरे क्वार्टर में 17वें मिनट में दिल्ली को एक और पेनाल्टी कॉर्नर मिला और ड्रेग फ्लिकर रूपिंदर ने इसे गोल में बदल कर स्कोर 2-0 कर दिया। दूसरे क्वार्टर की सामप्ति में 10 सेकेंड का समय बचा था इसी बीच पंजाब को पेनाल्टी कॉर्नर मिले जिसे गोल में बदल कर मार्क ने पंजाब का खाता खोला।

और पढ़ें:हॉकी इंडिया का पाकिस्तान को जवाब, चैंपियंस ट्रॉफी के लिए मांगो माफी तभी खेलेंगे द्विपक्षीय सीरीज

तीसरे क्वार्टर में दिल्ली ने अपना आक्रामक खेल जारी रखा और कई प्रयास किए। शुरुआती मिनटों में दो करीबी मौके गंवाने के बाद मनदीप ने दिल्ली के लिए एक और गोल दागा। बेसलाइन से परविंदर ने पास दिया जिसे मनदीप ने गोलपोस्ट की राह दिखाई। यह इस मैच का पहला फील्ड गोल था। गौरतलब है कि एचआईएल में एक फील्ड गोल को दो गोल माना जाता है।

दिल्ली की टीम 4-1 से आगे थी। तीन गोल से पीछे चल रही पंजाब की रक्षापंक्ति दबाव में और बिखर गई। 44वें मिनट में दिल्ली को पेनाल्टी स्ट्रोक मिला जिसे लुईस ने नेट में डाल स्कोर 6-1 कर दिया। अंतिम क्वार्टर में दिल्ली की टीम हालांकि और कोई गोल नहीं कर पाई लेकिन उसने मेजबानों को किसी भी पल अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया।

और पढ़ें:2016 में भारतीय हॉकी ने पाई खोई हुई चमक, जीते कई बड़े खिताब

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

अन्य ख़बरे

न्यूज़ फीचर

मुख्य ख़बरें

वीडियो

फोटो